अनिल कपूर और उनकी ऑनस्क्रीन केमेस्ट्री

अनिल कपूर और उनकी ऑनस्क्रीन केमेस्ट्री
Share:

अनिल कपूर चार दशकों से अधिक समय से सिल्वर स्क्रीन की शोभा बढ़ा रहे हैं और एक ऐसा नाम है जो बॉलीवुड स्टारडम का पर्याय है। वह अपनी करिश्माई उपस्थिति, त्रुटिहीन अभिनय क्षमताओं और चिरस्थायी आकर्षण के कारण भारतीय फिल्म उद्योग में एक लोकप्रिय व्यक्ति बन गए हैं। सह-कलाकारों के साथ उनकी ऑन-स्क्रीन केमिस्ट्री उनके करियर का एक पहलू है जिसने हमेशा दर्शकों की रुचि को बढ़ाया है। यह लेख अनिल कपूर के अपने सह-कलाकारों के साथ रहे कुछ सबसे प्रसिद्ध रिश्तों की जांच करेगा और चर्चा करेगा कि उन्होंने बॉलीवुड के इतिहास में कैसे योगदान दिया है।

माधुरी दीक्षित और अनिल कपूर के बीच ऑन-स्क्रीन केमिस्ट्री शानदार है। दोनों ने पहली बार 1989 में सुभाष घई प्रोडक्शन की फिल्म "राम लखन" में स्क्रीन साझा की थी। पहली बार जब वे स्क्रीन पर एक साथ दिखाई दिए, तो उनकी चुंबकीय केमिस्ट्री स्पष्ट थी। अनिल कपूर द्वारा निभाया गया किरदार लाखन एक सड़कछाप लेकिन प्यारा किरदार था, और राधा, जिसका किरदार माधुरी ने निभाया था, एक मजबूत इरादों वाली और स्वतंत्र महिला थी। उनके अलग-अलग व्यक्तित्वों ने एक मनोरम प्रेम कहानी बनाने के लिए खूबसूरती से एक साथ काम किया जिसने दर्शकों को मंत्रमुग्ध कर दिया।

"राम लखन" के सफल होने के बाद, "तेज़ाब" (1988) और "बीटा" (1992) सहित कई अन्य परियोजनाओं का निर्माण किया गया। "तेज़ाब" में अनिल कपूर ने विद्रोही युवक मुन्ना का किरदार निभाया था और माधुरी ने नर्तकी मोहिनी का किरदार निभाया था। बॉलीवुड इतिहास में सबसे प्रसिद्ध नृत्य अनुक्रमों में से एक उनका विद्युतीकरण नृत्य नंबर "एक दो तीन" है, जिसे उन्होंने फिल्म में प्रस्तुत किया था।

अनिल कपूर ने "बीटा" में राजू की भूमिका निभाई, जो एक युवा व्यक्ति था जो अपनी नियंत्रित मां के साथ अशांत रिश्ते में फंसा हुआ था, जिसे अरुणा ईरानी ने निभाया था। उसकी मुलाकात माधुरी दीक्षित द्वारा निभाए गए किरदार सरस्वती से होती है और वह उसकी सारी खुशियों का स्रोत बन जाती है। एक बार फिर, उनकी ऑन-स्क्रीन केमिस्ट्री चमक उठी, जिससे उन्हें प्रशंसा मिली और बॉलीवुड की सबसे पसंदीदा ऑन-स्क्रीन जोड़ियों में से एक के रूप में उनकी स्थिति मजबूत हो गई।

महान अभिनेत्री श्रीदेवी और अनिल कपूर का सहयोग बॉलीवुड के इतिहास में एक और गौरवशाली अध्याय है। उन्होंने पहली बार शेखर कपूर की "मिस्टर इंडिया" (1987) में स्क्रीन साझा की। अनिल कपूर ने एक पत्रकार अरुण वर्मा की मुख्य भूमिका निभाई और श्रीदेवी ने सीमा की भूमिका निभाई। आविष्कारशील कहानी और उनकी चुंबकीय केमिस्ट्री की बदौलत "मिस्टर इंडिया" बहुत बड़ी हिट बन गई।

प्रेम गीत "काटे नहीं कटते दिन ये रात" "मिस्टर इंडिया" का सच्चा उच्च बिंदु था। अनिल कपूर और श्रीदेवी की दिलकश केमिस्ट्री इस गाने की सफलता की कुंजी थी, जिसे बॉलीवुड के सबसे कामुक और भावुक गीतों में से एक माना जाता है।

अनिल कपूर ने अपने सहयोग को जारी रखते हुए, "लम्हे" (1991) में क्रमशः वीरेंद्र और सिद्धार्थ, दोनों पिता और पुत्र की भूमिका निभाई। सामाजिक मानदंडों को चुनौती देने वाली एक अनोखी और जटिल प्रेम कहानी बनाने के लिए, श्रीदेवी ने पल्लवी और बाद में उनकी बेटी पल्लवी की भूमिका निभाई। अपने समय से आगे, "लम्हे" ने भावनाओं की विस्तृत श्रृंखला का प्रदर्शन किया जिसे अनिल कपूर और श्रीदेवी एक साथ स्क्रीन पर चित्रित कर सकते थे।

अनिल कपूर और जूही चावला के बीच की ऑन-स्क्रीन केमिस्ट्री ने बॉलीवुड की रोमांटिक शैली को एक नई गतिशीलता दी। "लोफर" (1996) और "बेनाम बादशाह" (1991) जैसी फिल्मों में उनकी केमिस्ट्री कॉमेडी और रोमांस का एक अद्भुत मिश्रण थी। अनिल कपूर ने "बेनाम बादशाह" में एक छोटे चोर राजा का किरदार निभाया था और जूही चावला ने प्रिया नामक एक महिला का किरदार निभाया था, जो अपने विरोधियों से बदला लेने के लिए उसे काम पर रखती थी। उनकी दोस्ती और कॉमेडी टाइमिंग ने फिल्म को एक अलग एहसास दिया।

फिल्म "लोफर" में अनिल कपूर ने रवि कुमार की भूमिका निभाई, जो एक ठग है और उसकी मुलाकात जूही चावला द्वारा अभिनीत सीमा सिंह से होती है। इस रोमांटिक कॉमेडी को उनकी आकर्षक बातचीत और चंचल नोक-झोंक ने और भी अधिक मनोरंजक बना दिया था। अनिल कपूर और जूही चावला के बीच की केमिस्ट्री निर्विवाद रूप से इन फिल्मों का मुख्य आकर्षण थी, बावजूद इसके कि उनकी कुछ अन्य जोड़ियों जितनी प्रसिद्ध नहीं थीं।

2000 में रिलीज़ हुई "हमारा दिल आपके पास है" में अनिल कपूर ने अलौकिक ऐश्वर्या राय बच्चन के साथ अभिनय किया। ऐश्वर्या ने यौन उत्पीड़न की शिकार प्रीति की भूमिका निभाई और अनिल कपूर ने एक दयालु व्यक्ति अविनाश की भूमिका निभाई। फिल्म में उनकी प्रेम कहानी खास थी क्योंकि यह सहानुभूति, करुणा और समाज में उनके सामने आने वाली कठिनाइयों पर केंद्रित थी। अनिल कपूर को एक प्यारे और सहायक साथी के चित्रण के लिए आलोचकों से प्रशंसा मिली, और ऐश्वर्या के साथ उनकी केमिस्ट्री प्यारी और ईमानदार थी।

बॉलीवुड में अपने शानदार करियर के दौरान अनिल कपूर की अपने सह-कलाकारों के साथ कई यादगार प्रेम कहानियां रही हैं। माधुरी दीक्षित, श्रीदेवी, जूही चावला और ऐश्वर्या राय बच्चन जैसे सितारों के साथ उनके ऑन-स्क्रीन रिश्तों ने दर्शकों के दिलों में स्थायी रूप से जगह बना ली है। अनिल कपूर अपने प्रेम संबंधों के कारण बॉलीवुड के सबसे स्थायी और प्रशंसित अभिनेताओं में से एक हैं, जिन्होंने अपनी फिल्मों को गहराई, आकर्षण और भावना के साथ बढ़ाया है, चाहे वह माधुरी दीक्षित के साथ उनकी हॉट केमिस्ट्री हो या श्रीदेवी के साथ उनकी प्यारी दोस्ती। प्रशंसक उनकी आने वाली जोड़ियों का बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं क्योंकि उनका करियर आगे बढ़ रहा है और वे निस्संदेह बड़े पर्दे पर क्या जादू लाएंगे।

बॉलीवुड की इस अदाकारा ने सिखाई शाहरुख खान को एक्टिंग, खुद एक्टर ने किया खुलासा

पत्नी जया संग अमिताभ बच्चन ने शेयर कर दिया ऐसा वीडियो, देखकर चौंके यूजर्स

भारत vs INDIA की बहस के बीच अक्षय कुमार ने उठाया बड़ा कदम, पोस्ट देख झूमे फैंस

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -