क्या खास है पुतिन में, जो ट्रम्प भी डरते हैं ?

वाशिंगटन: सीरिया पर अमेरिका द्वारा हमला किया जाने के बाद से ही, रूस और अमेरिका के बीच में अनबन हो गई है. दोनों देशों के राष्ट्रपति एक दूसरे पर तीखे जुबानी हमले कर रहे हैं. डोनाल्ड ट्रम्प जहां रूस को धमकाने की कोशिश कर रहे है, वहीं रुसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने अमेरिका को खुली चुनौती देते हुए कहा है कि अगर अमेरिका में हिम्मत है तो वो दोबारा सीरिया पर हमला करके दिखाए.  रूस की धमकी ने अमेरिका को जरूर डरा दिया है और अमेरिका के इस डर की सबसे बड़ी वजह हैं खुद पुतिन.

दुनिया के चार बड़े राष्ट्राध्यक्ष हैं,  डोनाल्ड ट्रम्प, शी जिनपिंग, किम जोंग और पुतिन. अब ट्रम्प और किम जोंग तो  बातचीत के लिए तैयार हो चुके हैं, इसीलिए चीन भी चुप है. अब बचते हैं सिर्फ दो ट्रम्प और पुतिन जो सीरिया को लेकर आमने-सामने हैं. इसमें भी ज्यादा आक्रामक पुतिन हैं, यह बात अमेरिका अच्छी तरह जनता है. आपको बता दें कि पुतिन ऐसी कई चीज़ें कर सकते हैं, जो दूसरे राष्ट्राध्यक्ष सोच भी नहीं सकते. जरा पुतिन की खूबियां देखिए, राजनेता, जासूस, मार्शल आर्ट मास्टर, पायलट, टैंक चलाने वाला सैनिक, अभेद निशाना लगाने वाला निशानेबाज़, स्पोर्ट्स कार चलाने वाला रेसर, बाइकर, आईस हॉकी का खिलाड़ी, पानी में शिकार करने वाला शिकारी, जंगली जानवरों से खेलने वाला जियाला, टाइगर को ज़मीन चटाने वाला जांबाज़, घुड़सवार, तैराक, पहाड़ों पर चढ़ने वाला क्लाइंबर, स्कूबा डाइविंग करने वाला डाइवर, फ्राइंग पैन को हाथों से मोड़ देने वाला बहादुर.

7 अक्टूबर 1952 में जन्मे पुतिन को बचपन से  ही जासूसी का बड़ा शौक था, एक दिन उन्हें रूसी खुफिया एजेंसी केजीबी की एक महिला अफसर मिली, जिसने उन्हें केजीबी के लिए क़ानूनी डिग्री लेने की सलाह दी. आपको बता दें कि केजीबी दुनिया की सबसे खतरनाक खुफियां एजेंसियों में से एक है. केजीबी के जासूसों के कारनामों की कहानियां दुनिया भर में सुनी और सुनाई जाती हैं और उसी केजीबी का जासूस बनने के लिए पुतिन ने पूरी तैयारी कर रखी थी. जुनून ऐसा था कि पहली ही कोशिश में पुतिन केजीबी के लिए चुन लिया गया. इसके बाद उन्हें पहले मिशन पर जर्मनी भेजा गया. इसके बाद से ही उनका राष्ट्रपति बनने का सफर शुरू हो गया. इसी क्रम में पुतिन अब चौथी बार रूस के राष्ट्रपति बन चुके हैं. 

गलती से अपहरण किये गए भारतीयों की मदद के लिए सुषमा से गुहार

कुवैत में अदनान सामी के स्टाफ के साथ हुई बदसुलूकी, कहा 'इंडियन डॉग्स'

पाक और बांग्लादेश से कई बेहतर भारतीय प्रवासियों की छवि- रिपोर्ट

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -