वायु प्रदूषण से 2015 में चीन से अधिक भारत में हुई थी मौतें

Nov 17 2016 09:12 AM
वायु प्रदूषण से 2015 में चीन से अधिक भारत में हुई थी मौतें

नई दिल्ली : देश में बिगड़े वायु प्रदूषण के हालात से सभी परिचित हैं, लेकिन हाल ही में ग्लोबल बर्डन ऑफ डिजीज प्रोजेक्ट की ताजा रिपोर्ट में यह खुलासा हुआ है कि वर्ष 2015 में वायु प्रदूषण की वजह से चीन की अपेक्षा भारत में ज्यादा लोगों की मौतें हुईं थीं.

इस रिपोर्ट के अनुसार वर्ष 2015 में भारत में 3283 लोगों की रोजाना मौत हुई, जबकि इसकी तुलना में चीन में 3233 लोगों की मौत हुई. इस अध्ययन में यह बात भी सामने आई कि 1990 से अब तक लगातार भारत में होने वाले असामयिक मौत की संख्या में वृद्धि हुई है.

ग्रीनपीस ने इस रिपोर्ट के हवाले से बताया कि इस वर्ष के आरम्भ में ही संस्था ने यह जानकारी दी थी कि इस सदी में पहली बार भारतीय नागरिकों को चीन के नागरिकों की तुलना में औसत रूप से अधिक कण (पार्टिक्यूलेट मैटर-सूक्ष्म कण) या वायु प्रदूषण का दंश झेलना पड़ रहा है.

ग्रीनपीस के कैंपेनर सुनील दहिया की मानें तो चीन एक मिसाल है, जहां सरकार द्वारा  सख्त  नियम लागू करके लोगों के हित में वायु प्रदूषण पर नियंत्रण पाया जा सका है, जबकि भारत में साल दर साल लगातार वायु प्रदूषण बढ़ता ही गया इस कारण हमारी हवा बहुत प्रदूषित हो गई. सरकार से इससे निपटने के लिए तत्काल कदम उठाने की जरूरत बताई.

दिल्ली के प्रदूषण से नहीं ली सीख तो विश्व की हवा हो जाएगी जहरीली