हाथरस मामले में ADG ने दी सफाई, कहा- जबरन नहीं किया गया अंतिम संस्कार

Sep 30 2020 05:22 PM
हाथरस मामले में ADG ने दी सफाई, कहा- जबरन नहीं किया गया अंतिम संस्कार

लखनऊ: यूपी के एडीजी लॉ एंड ऑर्डर प्रशांत कुमार ने कहा है कि हाथरस गैंगरेप पीड़िता के शव का अंतिम संस्कार पुलिस ने जबरन नहीं किया है. मीडिया के साथ विशेष बातचीत में प्रशांत कुमार ने बोला कि परिवारवालों की सहमति के बाद ही शव का अंतिम संस्कार किया गया था. उन्होंने बोला कि देर होने से शव खराब भी हो रहा था. अंतिम संस्कार के समय पीड़िता के परिवार वाले भी मौजूद थे. अपनी बात जारी रखते हुए एडीजी प्रशांत कुमार ने बोला कि पीड़िता के अंतिम संस्कार को लेकर जिला प्रशासन ने ट्वीट किया था कि उसका अंतिम संस्कार परिवारवालों की मौजूदगी और उनकी सहमति से किया गया. उन्होंने बोला कि पीड़िता की मृत्यु 29 सितंबर की सुबह हुई थी और पोस्टमार्टम के उपरांत शव खराब हो रहा था. इसी को ध्यान में रखते हुए स्थानीय प्रशासन ने परिवार की सहमति से पीड़िता का अंतिम संस्कार किया.

जबरन नहीं किया गया अंतिम संस्कार: ADG प्रशांत कुमार ने बोला कि अगर शव का अंतिम संस्कार करने में किसी तरह की जोर जबर्दस्ती की गई है तो इस केस की जांच के लिए गठित SIT की टीम इस मामले में पीड़िता के परिजनों का बयान लेगी और कार्रवाई की जा रही है. उन्होंने बोला कि हो सकता है कि रात को अंतिम संस्कार को लेकर परिवार की महिलाओं को कोई आपत्ति हो, लेकिन शव बॉडी खराब हो रहा था. प्रशांत कुमार ने बोला कि समाज में कई बातों का ख्याल रखना पड़ता है. उन्होंने बोला कि पुलिस ने इस केस में जबर्दस्ती नहीं की है, अगर शव रह जाती तो उसमें ऐसा क्या परिवर्तन हो जाता?

मजिस्ट्रेट की बातों पर यकीन करना चाहिए: ADG लॉ एंड ऑर्डर प्रशांत कुमार ने बोला कि इस केस में पारदर्शिता रहे इसलिए SIT का गठन कर दिया है. उन्होंने बताया है कि स्थानीय अधिकारियों पर भरोसा किया जाए. जब मजिस्ट्रेट ने बताया है कि परिवार की सहमति से अंतिम संस्कार किया गया है तो हमें इस पर विश्वास किया जाना चाहिए. उन्होंने बताया कि अगर अंतिम संस्कार में देरी के कारण से शव खराब हो जाता तो क्या होता?

मद्रास HC ने सरकार से मरीना बीच को फिर से खोलने की अनुमति देने का किया अनुरोध

तमिलनाडु: पुलिसकर्मियों के फर्जी प्रोफाइल निवासियों से ऐंठ रहे हैं पैसे

केरल सरकार द्वारा स्वास्थ्य आपातकाल किया जाएगा घोषित ?