AAP विधायक अलका लांबा ने फिर लगाए आरोप, कहा पार्टी नेतृत्व मुझे करना चाहता है कमजोर

नई दिल्ली: आम आदमी पार्टी (आप) से विधायक अलका लांबा ने पार्टी के शीर्ष नेतृत्व पर उन्हें कमज़ोर करने का आरोप लगाते हुए सवाल किया है कि उन्हें कमज़ोर करके पार्टी को क्या फायदा होगा. लांबा ने सोमवार को कहा है कि उन्हें आगामी बुधवार को अपने ही विधानसभा क्षेत्र चांदनी चौक में आयोजित होने वाली पार्टी संयोजक और सीएम अरविंद केजरीवाल की रैली की भी जानकारी नहीं दी गई है. उन्होंने अपने बयान में कहा है कि, ''20 फ़रवरी को चांदनी चौक विधानसभा क्षेत्र में सीएम केजरीवाल जनसभा करने आ रहे हैं, जिसकी मुझे कोई सूचना नही दी गई है.'' 

पुलवामा हमले पर बोले अखिलेश- देश को बुलेट ट्रेन नहीं, सेना को चाहिए बुलेट प्रूफ जैकेट

पार्टी के शीर्ष नेतृत्व से पिछले कुछ समय से खफा चल रहीं लांबा ने अगले विधानसभा चुनाव के लिए अभी से आप प्रत्याशी को मैदान में उतार देने का भी आरोप लगाया है. उन्होंने कहा है कि, ''पार्टी ने पुराने चेहरे को मैदान में 2020 के विधानसभा चुनाव के लिए अभी से उतार भी दिया है, जब कि मैं एक विधायक के तौर पर आज भी पूरी तरह से जनता के मध्य एक्टिव रहते हुए विकास कार्यों को आगे बढ़ा रही हूं. मुझे कमज़ोर करके पार्टी को क्या फायदा होगा?'

पुलवामा हमले पर ममता को सूझी राजनीति, भाजपा-आरएसएस पर लगाए गंभीर आरोप 

आप की तरफ से लांबा के आरोपों पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी गई है. लांबा ने कहा है कि उन पर कांग्रेस में जाने के आरोप लगाए जा रहे हैं. लांबा ने पार्टी के किसी नेता का नाम लिए बगैर कहा है कि, ''कांग्रेस से गठबंधन करने में कोई और ही किसी भी स्तर पर समझौता करने को तैयार बैठा हुए है, जो सबके सामने भी है.'' उन्होंने कहा है कि, ''जनता ने चुना है, जनता के लिए यूं ही समर्पित रहते हुए अपने कार्य जारी रखूंगी.'' उल्लेखनीय है कि हाल ही में पूर्व पीएम राजीव गांधी का भारत रत्न सम्मान वापस लेने सम्बंधी आप विधायकों द्वारा दिल्ली विधानसभा में पेश कथित प्रस्ताव का विरोध करने के बाद से लांबा से पार्टी नेतृत्व खफा हैं.

खबरें और भी:-

सिद्धू के नापाक बयान पर फूटा गजेंद्र चौहान का गुस्सा, कहा फिल्म सिटी में घुसने नहीं देंगे

बीजेपी और शिवसेना के बीच बनी सीटों पर सहमति, शाम तक औपचारिक घोषणा संभव

मध्य प्रदेश विधानसभा में शहीदों को दी गई श्रद्धांजलि, पाक के खिलाफ निंदा प्रस्ताव पारित

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -