नवरात्र के छठवें दिन क्या कहता है पंचांग, जानिए यहाँ

Oct 22 2020 08:23 AM
नवरात्र के छठवें दिन क्या कहता है पंचांग, जानिए यहाँ

आज नवरात्रि का छठवां दिन है यह माता देवी मां कात्यायनी को समर्पित माना जाता है। वैसे ऐसे में आज हम आपको बताने जा रहे हैं आज का यानी 22 अक्टूबर का पंचांग।

आज का पंचांग

दिन: गुरुवार, शुद्ध आश्विन मास, शुक्ल पक्ष, षष्ठी तिथि।

आज का दिशाशूल: दक्षिण।

आज का राहुकाल: दोपहर 01:30 बजे से 03:00 बजे तक।

आज का पर्व एवं त्योहार: शारदीय नवरात्रि षष्ठी, सरस्वती देवी का पूजन।

विक्रम संवत 2077 शके 1942 दक्षिणायन, दक्षिणगोल, शरद ऋतु शुद्ध आश्विन मास शुक्ल पक्ष की षष्ठी 07 घंटे 40 मिनट तक, तत्पश्चात् सप्तमी पूर्वाआषाढ़ा नक्षत्र 24 घंटे 59 मिनट तक, तत्पश्चात् उत्तराआषाढ़ा नक्षत्र सुकर्मा योग 26 घंटे 37 मिनट तक, तत्पश्चात् धृति योग धनु में चंद्रमा।

आज का शुभ समय -

अभिजित मुहूर्त: दिन में 11 बजकर 43 मिनट से दोपहर 12 बजकर 28 मिनट तक।

अमृत काल: शाम को 08 बजकर 14 मिनट से रात 09 बजकर 49 मिनट तक।

विजय मुहूर्त: दोपहर 01 बजकर 58 मिनट से दोपहर 02 बजकर 43 मिनट तक।

सूर्योदय और सूर्यास्त 

आज षष्ठी के दिन सूर्योदय प्रात:काल 06 बजकर 26 मिनट पर हुआ है, वहीं सूर्यास्त शाम को 05 बजकर 44 मिनट पर होना है।

चंद्रोदय और चंद्रास्त 

आज का चंद्रोदय दोपहर में 12 बजकर 15 मिनट पर होगा। वहीं, चंद्र का अस्त उसी रात 10 बजकर 44 मिनट पर होगा।

आज के दिन शुद्ध आश्विन मास के शुक्ल पक्ष की षष्ठी है। कहा जाता है बंगाल में नवरात्रि में षष्ठी के दिन से ही दुर्गा पूजा का आरंभ होता है जो आज से आरम्भ होने वाला है और यह पर्व बंगाल के लोग 5 दिनों तक मनाते हैं। ऐसे में जिस दिन दशमी आती है उस दिन मां दुर्गा की ​मूर्तियों के विसर्जन के साथ ही नवरात्रि के पावन पर्व का समापन होता है। वैसे आज आप कोई नया कार्य करना चाहते हैं तो शुभ मुहूर्त का ध्यान रखें।

मप्र के पूर्व सीएम कमलनाथ के खिलाफ दर्ज हुई FIR

23 दोस्तों को लेकर डेट पर पहुंची युवती, नौ दो ग्यारह हुआ ब्वॉयफ्रेंड

पश्चिम रेलवे ने मुंबई में महिलाओं यात्रियों को दी लोकल ट्रेनों में यात्रा की अनुमति