जिम्बाब्वे के कप्तान हैमिल्टन मसाकाद्जा ने अंतरराष्ट्रीय को कहा अलविदा

नई दिल्लीः जिम्बाब्वे के कप्तान हैमिल्टन मसाकाद्जा ने अंतरराष्ट्रीय से सन्यास लेने का ऐलान किया है। मसाकाद्जा ने अफगानिस्तान के खिलाफ अपने अंतरराष्ट्रीय करियर का आखिरी मैच खेला। इस मैच में शानदार पारी खेलते हुए 42 गेंदों पर नाबाद 71 रन की पारी खेली। अपनी पारी के दम पर उन्होंने अपनी टीम को इस मैच में 7 विकेट से शानदार जीत भी दिलाई। बेहतरीन पारी और शानदार जीत के साथ उन्होंने अपने 18 साल के क्रिकेट करियर से विदा ले लिया।

हैमिल्टन ने अपने क्रिकेट करियर के आखिरी मुकाबले में तूफानी पारी खेलते हुए अपनी टीम के लिए 42 गेंदों पर 71 रन बनाए और अपनी पारी में चार चौके व पांच छक्के लगाए। उनका स्ट्राइक रेट 169.05 का रहा। उनकी पारी के दम पर जिम्बाब्वे ने अफगानिस्तान को 7 विकेट से हरा दिया। इुस मैच में अफगानिस्तान ने 20 ओवर में 8 विकेट पर 155 रन बनाए थे। इसके जवाब में जिम्बाब्वे की टीम ने 19.3 ओवर में तीन विकेट पर 156 रन बनाकर जीत दर्ज कर ली। हैमिल्टन जिम्बाब्वे के एकलौते खिलाड़ी हैं जिन्होंने 300 से ज्यादा अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट मैच खेले।

वहीं टी 20 क्रिकेट में जिम्बाब्वे की तरफ से 1000 से ज्यादा रन बनाने वाले वो जिम्बाब्वे के पहले खिलाड़ी हैं। 36 वर्ष के हैमिल्टन ने अपनी टीम के लिए 38 टेस्ट में 30.04 की औसत से 2223 रन बनाए थे। टेस्ट में उनके नाम पर पांच शतक हैं और उनका बेस्ट स्कोर 158 रन है। मसाकाद्जा ने जिम्बाब्वे के लिए कुल 209 वनडे मैचों में पांच शतक लगाए और 27.73 की औसत के कुल 5658 रन भी बनाए। वनडे में उनकी बेस्ट पारी नाबाद 178 रन की थी। उन्होंने 65 टी 20 मैचों में 1591 रन बनाया। उनका सर्वश्रेष्ठ स्कोर 93 रन रहा।

विराट कोहली के नाम पर दर्ज हुआ एक और वर्ल्ड रिकॉर्ड

India vs South Africa: दक्षिण अफ्रीका ने भारत को दी करारी मात, सीरीज हुई बराबर

विराट कोहली से मिलने की चाह एक प्रशंसक को पड़ा भारी, जाने मामला

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -