सिंगल-यूज प्लास्टिक का विकल्प पेश करने वाले को मिलेंगे तीन लाख रूपये