सन्यास लेंगे इस्लाम त्यागकर हिन्दू बने वसीम रिज़वी, अखाड़े को दान कर सकते हैं संपत्ति

लखनऊ: इस्लाम धर्म को त्यागकर हिंदू धर्म अपनाने वाले उत्तर प्रदेश शिया वक्फ बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष वसीम रिजवी उर्फ जितेंद्र त्यागी अपनी संपत्ति अखाड़े को दान कर सकते हैं। बताया जा रहा है कि हरिद्वार में उनके संन्यास लेने की तैयारियां की जा रही हैं। इस बीच रिजवी अपने संपत्ति की जानकारी जुटाने के लिए लखनऊ रवाना हो गए हैं। संतों की तरफ से उन्हें अपने परिवार से एक बार मिलने की अपील की गई थी, मगर रिजवी अपने घर जाने के लिए तैयार नहीं थे।

शांभवी पीठाधीश्वर आनंद स्वरूप ने त्यागी से अपील की। कई दिनों तक अपील करने के बाद जितेंद्र त्यागी अपने घर चले गए है। शांभवी पीठाधीश्वर आनंद स्वरूप उन्हें संन्यास दिलाएंगे। कयास लगाए जा रहे हैं कि जितेंद्र त्यागी अपनी संपत्ति अखाड़े या फिर आनंद स्वरूप को दान कर सकते हैं। हालांकि संपत्ति किसको प्रदान की जाएगी। इस पर अभी चर्चा होनी बाकी है। लखनऊ के अलावा रिजवी की मुरादाबाद में भी संपत्ति है। उनका बेटा विदेश में है, जबकि बिटिया का निकाह हो चूका है।

बता दें कि उत्तरी हरिद्वार के खड़खड़ी स्थित वेद निकेतन में 17 से 19 नवंबर तक आयोजित की गई धर्मसंसद में अर्मादित भाषण के मामले उन्हें अरेस्ट किया गया था। जेल गए वसीम रिजवी उर्फ जितेंद्र नारायण सिंह त्यागी सर्वोच्च न्यायालय से अंतरित जमानत मिलने के बाद अब सन्यास लेने की तैयारियों में लगे हुए हैं। संन्यास को लेकर वह कई संतों के साथ भी मुलाकात कर चुके हैं। शांभवी पीठाधीश्वर आनंद स्वरूप ने बताया कि संपत्ति के सिलसिले में जितेंद्र त्यागी लखनऊ चले गए हैं। 

क्या रद्द हो जाएगा 1991 का Worship Act ? सुप्रीम कोर्ट में दाखिल हुई 7वीं याचिका

आयुर्वेद, योग को धर्म/समुदाय के साथ जोड़ना दुर्भाग्यपूर्ण: राष्ट्रपति

जमीयत उलेमा ए हिंद का बड़ा सम्मेलन, मंदिर-मस्जिद के मुद्दों पर हो सकती है चर्चा

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -