'विपक्ष के मुंह पर करारा तमाचा..', EVM पर 'सुप्रीम' फैसले को लेकर बोले पीएम मोदी

'विपक्ष के मुंह पर करारा तमाचा..', EVM पर 'सुप्रीम' फैसले को लेकर बोले पीएम मोदी
Share:

पटना: प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने बिहार के अररिया में एक चुनावी रैली को संबोधित किया, जहां उन्होंने वीवीपैट के साथ ईवीएम का उपयोग करके डाले गए वोटों के क्रॉस-सत्यापन की मांग करने वाली याचिकाओं को सुप्रीम कोर्ट द्वारा खारिज करने की सराहना की। उन्होंने इसे "विपक्ष के चेहरे पर करारा तमाचा" बताया और मांग की कि वे देश से माफी मांगें।

प्रधानमंत्री ने कहा, ''सर्वोच्च न्यायालय ने विपक्ष के मुंह पर करारा तमाचा मारा है जो ईवीएम का रोना रोते थे। आज हमारे लोकतंत्र के लिए एक शुभ दिन है।"इससे पहले आज, सुप्रीम कोर्ट ने वीवीपैट के साथ ईवीएम का उपयोग करके डाले गए वोटों के पूर्ण सत्यापन की मांग करने वाली सभी याचिकाओं को खारिज कर दिया। पीएम मोदी ने इस बात पर जोर दिया कि जहां दुनिया भारत के लोकतंत्र और चुनावी प्रक्रिया की प्रशंसा करती है, वहीं विपक्ष निजी फायदे के लिए इसे बदनाम करता है।

रैली में उन्होंने आरोप लगाया कि कांग्रेस पार्टी ने अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति और अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) के अधिकारों को छीनने की साजिश रची। पीएम मोदी ने कहा, ''बाबा साहेब भीमराव अंबेडकर ने बहुत स्पष्ट शब्दों में कहा था कि भारत में धर्म आधारित आरक्षण नहीं हो सकता, लेकिन कांग्रेस धर्म आधारित आरक्षण लागू करने की पूरी कोशिश कर रही है।'' उन्होंने राजद-कांग्रेस गठबंधन की भी आलोचना करते हुए कहा कि उन्हें "भारत के संविधान की कोई परवाह नहीं है।"

प्रधानमंत्री ने कहा, "उन्होंने दशकों तक लोगों को वोट देने के अधिकार का इस्तेमाल नहीं करने दिया। अब, जब गरीब और ईमानदार मतदाताओं के पास ईवीएम की ताकत है, तो वे ईवीएम से छुटकारा पाने के लिए हर संभव कोशिश कर रहे हैं।" केंद्रीय कानून मंत्री अर्जुन राम मेघवाल ने भी सुप्रीम कोर्ट के फैसले की सराहना करते हुए कहा कि इसने कांग्रेस सहित विपक्षी दलों को बेनकाब कर दिया है, जिन्होंने चुनाव आयोग को "बदनाम" करने का कोई मौका नहीं छोड़ा था।

ICC ने युवराज सिंह को बनाया T20 वर्ल्ड कप 2024 का ब्रांड एंबेसडर, सिक्सर किंग ने जताई ख़ुशी

'EVM और VVPAT के खिलाफ लड़ाई जारी रहेगी..', सुप्रीम कोर्ट के फैसले के खिलाफ अखिलेश यादव का बयान

कॉलेजियम सिस्टम के खिलाफ याचिका पर सुनवाई से सुप्रीम कोर्ट का इंकार, हज़ारों वकीलों को नहीं मिलेगा जज बनने का समान अवसर !

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -