कैदियों के बीच हुए गैंगवार के लिए तिहाड़ जेल अधिकारी जिम्मेदार

Aug 27 2015 04:03 PM
कैदियों के बीच हुए गैंगवार के लिए तिहाड़ जेल अधिकारी जिम्मेदार

नई दिल्ली : दिल्ली पुलिस ने तिहाड़ जेल की वैन में कैदियों के बीच हुए गैंगवार के लिए गुरुवार को तिहाड़ जेल के अधिकारियों को जिम्मेदार ठहराया। गैंगवार में दो कैदी मारे गए थे। पुलिस ने कहा कि तिहाड़ कारागार के अधिकारी मंगलवार को जेल की वैन में हुए गैंगवार में शामिल विचाराधीन कैदियों पर मंडरा रहे खतरे के बारे में जानकारी देने को लेकर उदासीन थे। दिल्ली पुलिस ने कहा कि जेल अधिकारियों के सिर पर मंडरा रहे खतरे की पहले से जानकारी न हो, तो इसकी 'कल्पना' नहीं की जा सकती। पुलिस ने एक बयान में कहा, "जेल अधिकारियों, अदालत या मारे गए कैदियों की ओर से जान पर मंडरा रहे खतरे की बाबत कभी किसी तरह की कोई सूचना नहीं दी गई थी।"

एक पुलिस अधिकारी ने कहा, "नीरज बवाना और मारे गए दो कैदियों ने 10 और 11 अगस्त को तीसरी बटालियन के कर्मियों की देखरेख में साथ में सफर किया था। बटालियन कर्मियों को उनके बीच की दुश्मनी का कोई अहसास नहीं था।" एक बयान के अनुसार, जेल अधिकारियों को उच्च-जोखिम वाले विचाराधीन कैदियों से कम से कम 72 घंटे पहले पुलिस बटालियन को सूचित करना था।

पुलिस ने कहा कि ऐसे मामलों में ऐन मौके पर इंतजाम करना एक कठिन काम है। उल्लेखनीय है कि मंगलवार को रोहिणी जेल से एक बंदी वैन के जरिए नौ कैदियों को तिहाड़ कारागार ले जाया जा रहा था। उसी दौरान वैन में कैदियों के बीच गैंगवार छिड़ गया, जिसमें चार कैदियों ने दो अन्य कैदियों को पीट-पीट कर मौत के घाट उतार दिया। पुलिस ने कहा कि हमले को प्रतिद्वंद्वी गैंग के सरगना नीरज बवाना और उसके साथियों ने अंजाम दिया था।