युवक का दावा, कहा- "कोरोना की चपेट में आने के बाद इतने इंच छोटा हो गया मेरा...."

एक पोडकास्ट प्रोग्राम है- हाउ टू डू इट। जिसमे यौनजीवन से जुड़ी सलाह प्रदान की जाती है। इसी कार्यक्रम में एक अमेरिकी व्यक्ति ने हैरान कर देने वाला भी कर दिया है। उसका बोलना है कि कोविड संक्रमण के कारण से उसका प्राइवेटपार्ट  तकरीबन 4 सेंटीमीटर (1.5 इंच) सिकुड़ चुका है। 30 साल के इस व्यक्ति का बोलना है इसके कारण से उसका आत्मविश्वास प्रभावित हुआ है। साथ ही सेक्स की क्षमता पर भी बहुत ही बुरी तरह से असर पड़ा है।

जुलाई 2021 में यह व्यक्ति चीनी कोरोना वायरस की चपेट में आ गया था। जिसके उपरांत उसे हॉस्पिटल में एडमिट होना पड़ा था। इस व्यक्ति के अनुसार कोविड ने उसके वस्कुलर सिस्टम को हानि पहुंचाई है। खून के प्रवाह के लिए यह सिस्टम जिम्मेदार होता है और जिसमे नसें और धमनियाँ आती हैं। खबरों की माने तो पीड़ित ने दावा किया, “मैं 30 वर्ष का हूँ। मुझे जुलाई 2021 में कोविड हो गया था। कुछ दिन मेरा उपचार हॉस्पिटल में चला। हॉस्पिटल से छुट्टी पाने के उपरांत मैंने पाया कि मेरा प्राइवेट पार्ट पहले के मुकाबले छोटा हो चुका है। मुझे नपुंसकता (Erectile Dysfunction) की भी बीमारी लग गई थी। हालाँकि यह दवाओं से ठीक हो चुकी है। पर मेरे छोटे हुए प्राइवेट पार्ट को डॉक्टरों ने कभी न ठीक हो पाने वाली परेशानी बताई है।”

अमेरिकी यूरोलॉजिस्ट एशले विंटर ने कहा है कि, “किसी व्यक्ति की उत्तेजना की स्थिति में उसका दिमाग उसके प्राइवेट पार्ट की नसों में रक्त का प्रवाह पहुँचता है। पर जब यह नहीं हो पाता है तो प्राइवेट पार्ट तनाव न होने के चलते छोटा ही रह जाता है। इरेक्टाइल डिस्फंक्शन की बीमारी से भी यही परेशानी आती है। प्राइवेट पार्ट में खून को रोकने वाला यह COVID का एक बहुत ही दुर्लभ लक्षण है। बाद में यही नपुंसकता की वजह भी बन सकता है। इसी बीमारी से उबार चुके 2 अन्य पुरुषों के प्राइवेट पार्ट में भी वायरस के ट्रेसेस मिले थे। इससे उनका व्यक्तिगत जीवन प्रभावित हो गया था। जिसका उपचार करवाने के लिए उन्हें बाद में इम्प्लांट सर्जरी भी करवानी पड़ गई थी।”

उल्लेखनीय है कि लंदन के यूनिवर्सिटी कॉलेज ने इसको लेकर एक अध्ययन भी पूरा कर लिया है। कोविड से संक्रमित 3400 लोगों पर हुए इसे अध्ययन में 200 लोगों के साथ यह दुर्लभ समस्या देखने को मिली थी। इसी तरह वर्ल्ड जर्नल ऑफ मेन्स हेल्थ में प्रकाशित अमेरिका की यूनिवर्सिटी ऑफ मियामी मिलर स्कूल ऑफ मेडिसिन के अध्ययन में भी बताया गया था कि लंबे समय तक संक्रमित रहने के कारण कुछ लोगों में नपुंसकता के लक्षण देखने को मिले है।

Omicron Diet: ओमिक्रॉन से बचने के लिए क्या खाएं और क्या नहीं, WHO ने बताया

फ्रांस के स्वास्थ्य मंत्री ओलिवियर वेरन हुए कोरोना पॉजिटिव

स्वीडन की नौसेना को इजराइल की एल्बिटा से युद्ध प्रबंधन प्रणाली प्राप्त होगी

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -