मौत के डर से घबराया आतंकी, सुरक्षाबलों के सामने लगाने लगा नारें

भारत के पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान के दुष्प्रचार में फंसकर एक दिन पहले ही सोशल मीडिया पर हथियारों की नुमाइश के साथ आतंकवाद की राह पकड़ने वाले तीन युवाओं के सरेंडर के बाद सनसनीखेज खुलासा हुआ है. बताया जाता है कि गुरुवार की सुबह जब आतंकियों से मुठभेड़ हुई थी तो सुरक्षा बल भी एक वाकए से हैरान रह गए. हुआ यूं कि सुरक्षा बलों से घिरे आतंकियों ने अचानक ही 'हिंदुस्तान जिंदाबाद और पाकिस्तान मुर्दाबाद' का नारा लगाने लगे. 

भारतीय रेलवे का बड़ा ऐलान, आज से स्टेशन काउंटर पर बुक कराए जा सकेंगे रेल टिकट

इस मामले को लेकर तीन युवाओं का कहना है कि घाटी में सक्रिय आतंकी संगठनों के ओवरग्राउंड वर्कर (ओजीडब्ल्यू) युवाओं को बहकाकर आतंकवाद की राह पर धकेलने की साजिशें रचते हैं. इन्‍हीं ओजीडब्‍ल्‍यू के बहकावे में आकर दक्षिण कश्मीर में तीन वर्षों में करीब 200 युवा जिहादी तत्वों के दुष्प्रचार में फंसकर आतंकी बने हैं. अब जब सुरक्षाबलों ने ऐसे युवाओं को मुख्यधारा में वापस लाने का अभियान शुरू किया तो तस्वीर बदलने लगी है. युवाओं ने खुलासा किया कि अब पाकिस्‍तान परस्त तत्वों ने दक्षिण कश्मीर को छोड़ उत्तरी कश्मीर पर ध्यान केंद्रित कर लिया है.

पीएम मोदी ने स्वीकार की ममता की अपील, आज ही करेंगे 'अम्फान' प्रभावित बंगाल का दौरा

अपने बयान में आगे तीनों आरोपियों ने बताया कि वे भी उत्तरी कश्मीर में फिर से जाल फैला रहे ओजीडब्ल्यू के बहकावे में आ गए थे. ये तीनों आतंकी कुछ दिन पूर्व ही घर से भागे थे. परिजनों ने पुलिस और निकटवर्ती सैन्य शिविर में इसकी सूचना देते हुए इनकी सुरक्षित वापसी के लिए गुजारिश की थी. तीनों का पता लगाने के लिए अभियान भी चलाया गया लेकिन कोई सुराग नहीं मिला था. बताया जाता है कि बुधवार को इन युवकों की सोशल मीडिया पर कुछ तस्वीरें वायरल हुई जिसके बाद पुलिस और सेना ने मिलकर इन्हें पकड़ने का एक अभियान चलाया.

केवल राशन पर्याप्त नहीं, मजदूरों को नकदी की भी जरुरत- रघुराम राजन

कोटा स्टूडेंट्स की बस के लिए गहलोत सरकार ने मांगे थे 36 लाख रुपए, योगी सरकार ने 19 लाख चुकाए

नेपाल द्वारा नक़्शे में बदलाव किए जाने पर भड़का भारत, कड़े शब्दों में दी नसीहत

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -