नूपुर शर्मा की तस्वीर शेयर कर इस्लामिक आतंकवादी संगठन तालिबान ने की ये डिमांड

काबुल: इस्लामिक आतंकवादी संगठन तालिबान आए दिन चर्चाओं में रहता है। तालिबान की नजर में दूसरे धर्म की कोई इज्जत नहीं है और इसने मजहब के नाम पर कत्लेआम मचाया हुआ है। अब तालिबान भारत के मामले में दखल दे रहा है। जी दरअसल तालिबान ने नूपुर शर्मा के पैगंबर पर दिए गये विवादित बयान पर कहा है, कि 'उन्हें माफी नहीं मिलनी चाहिए।' तालिबान ने भारतीय सुप्रीम कोर्ट के उस बयान का समर्थन किया है, जिसमें सुप्रीम कोर्ट ने कहा था, कि 'नुपूर शर्मा के विवादित बयान ने भारत में आग भड़काया है।'

जी दरअसल सुप्रीम कोर्ट ने नुपूर शर्मा के बयान का आलोचना करते हुए उस याचिका को भी खारिज कर दिया था, जिसमें उन्होंने सभी केसेस को दिल्ली में ट्रांसफर करने की याचिका लगाई थी। वहीं अब तालिबान ने कहा है कि, वह भारतीय सुप्रीम कोर्ट के इस बात से सहमत है, कि नुपूर शर्मा के बयान ने भारत में आग भड़काया है। इसी के साथ आगे तालिबान ने कहा है कि, 'पैगंबर के अपमान के लिए नुपूर शर्मा को माफी नहीं मिलनी चाहिए'। आपको पता हो भारतीय सुप्रीम कोर्ट के न्यायमूर्ति सूर्या कांत ने कहा था कि नुपुर शर्मा की 'ढीली जीभ' ने सभी परेशानी पैदा कर दी है और उसे अपने कार्यों के लिए राष्ट्र से माफी मांगनी चाहिए। हालाँकि कई लोगों का कहना है सुप्रीम कोर्ट की सख्त टिप्पणी के बाद ऐसा लग रहा है, कि उस टिप्पणी की आड़ में उदयपुर कन्हैयालाल हत्याकांड में शामिल आरोपियों का बचाव करने की कोशिश की जा रही है।

वहीं अब तालिबान के प्रवक्त जबीहुल्लाह ने भी इस बाबत बयान जारी का है। जी दरअसल उर्दू में पोस्ट किए गए एक ट्वीट में, ज़बियुल्लाह ने कहा कि, 'भारतीय सर्वोच्च न्यायालय ने कहा है कि नुपुर शर्मा और उसकी ढीली जीभ ने पूरे देश को आग लगा दी है, और उसे इस्लाम के पैगंबर पर अपनी टिप्पणी के लिए माफी मांगनी चाहिए।' इसके अलावा तालिबान के प्रवक्ता ने यह भी मांग की कि नुपुर शर्मा को क्षमा नहीं किया जाना चाहिए, और उसे फांसी दी जानी चाहिए। तालिबान ने इसके साथ एक हैशटैग का भी इस्तेमाल किया, जिसका मतलब है कि ईशनिंदा दूत को खारिज कर दिया गया।।

'सर तन से जुदा कर दूंगा, इंडिया को भी बनाएंगे पाकिस्तान', अब इनको मिली धमकी

उदयपुर हत्याकांड के बाद UP की इस महिला को मिली जान से मारने की धमकी

'मुस्लिम शख्स को जिंदा जला दिया', स्वरा ने याद दिलाई 2017 की घटना लेकिन हो गई ट्रोल

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -