ताजमहल देखने के लिए चुकाना होगा दोगुना दाम

आगरा : विश्वप्रसिद्ध ताजमहल का दीदार अब और महंगा होने वाला है. भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण के अधीन आने वाले राष्ट्रीय संरक्षित स्मारकों में प्रवेश शुल्क तथा फिल्मांकन हेतु लाइसेंस शुल्क और जमानत राशि में भारी बढ़ोतरी होने वाली है और इसके लिए प्रारंभिक अधिसूचना भी जारी कर दी गई है. इसके तहत अब ताजमहल देखने के लिए 20 की जगह 40 रुपए चुकाने होंगे. कार्यालय अधीक्षण पुरातत्वविद् भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण आगरा ने इस सम्बंध में 14 सितंबर को अधिसूचना जारी करते हुए आगरा जिला प्रशासन को सूचना दी है.

साथ ही उसने ताजमहल, लालकिला, फतेहपुर सीकरी, सिकंदरा, एत्मादौला में इस प्रारंभिक अधिसूचना को सूचना पट पर चस्पा कर दिया है. यदि इस सम्बन्ध में किसी को आपत्ति या सुझाव है तो अधिसूचना जारी होने की तारीख से 45 दिनों के अंदर महानिदेशक, भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण नई दिल्ली को प्रेषित किया जा सकता है. इसके बाद एक नवम्बर से नये शुल्क को लागू किया जाएगा.

अभी क्या है शुल्क?

फिलहाल ताजमहल देखने के लिए भारतीय, दक्षेस और बिमस्टेक देशों के नागरिकों को 20 रूपए जबकि अन्य देशों के नागरिकों या विदेशी नागरिकों को 750 रूपए खर्च करने होते हैं. नई दर लागू होने के बाद भारतीय, दक्षेस और बिमस्टेक देशों के नागरिकों को प्रवेश के लिए कुल शुल्क 40 रूपए जबकि अन्य देशों या विदेशी नागरिकों को 1250 रुपए चुकाने होंगे.

वहीँ अब ‘क’ श्रेणी के स्मारकों में प्रवेश के लिए भारतीयों को 10 रुपए के स्थान पर 30 रुपए तथा विदेशियों के लिए 250 रूपए के स्थान पर 750 रुपए चुकाने होंगे. ‘ख’ श्रेणी के स्मारकों के लिए भारतीयों को 5 रुपए के स्थान पर 15 रुपए एवं विदेशियों के लिए 100 रुपए के स्थान पर 300 रुपए किया गया है.

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -