जरूरतें पूरी करने के लिए छात्र करते हैं इस तरह का धंधा

Apr 17 2015 11:48 AM
जरूरतें पूरी करने के लिए छात्र करते हैं इस तरह का धंधा
style="text-align: justify;">लंदन : कहा जाता है कि सेक्स एक तरह का टाॅनिक है जिससे कई तरह के मजऱ् का इलाज हो जाता है। मगर सेक्स उपचार के अलावा भी बहुत कुछ है, यह जीवन जीने के लिए एक जरूरत भी है। जिससे कुछ लोगों की आजीविका चलती है। भारत में तो परंपरागततौर पर महिलाऐं सेक्सवर्कर का कार्य करती हैं मगर अब धीरे धीरे बदली हुई जीवनशैली में देश में भी पुरूष वेश्या के तौर पर युवा सामने आने लगे हैं। 

हालांकि ब्रिटेन में इसका असर तेजी से देखने को मिला है। यहां छात्र और छात्राऐं अपने बढ़ते खर्च को मैनेज करने के लिए सेक्स को व्यवसाय बनाकर अपनाते हैं। जी हां, ताज़ा मामलों में यह बात सामने आई है। जिसमें कहा गया है कि लंदन में यूनिवर्सिटी में पढ़ने वाले विद्यार्थी अपने अन्य खर्चाों के लिए सेक्स को हथियार के तौर पर प्रयोग करते हैं और उससे अर्निंग करते हैं। विद्यार्थियों को होने वाली अर्निंग से विद्यार्थी अपना खर्चा मैनेज करते हैं। मिली जानकारी के अनुसार लंदन में यह चलन अब और भी बढ़ने लगा है। 

जिसमें छात्र भी सेक्स वर्कर की तरह सेक्स कर पैसा कमाते हैं। उल्लेखनीय है कि सेक्स वर्जनाओं में भारत भी पीछे नहीं हैं, जहां यहां परंपरागततौर पर वात्सायन के कामसूत्र की मान्यताऐं हैं वहीं अब महानगरों और उपमहानगरों में दबे छुपे सेक्स का कारोबार चलता है। इस कारोबार में यंगस्टर्स भी पुरूष वेश्याओं के तौर पर भागीदारी करते हैं। ऐसे लोग संभ्रांत और सेक्स की जरूरत से असंतुष्ट महिलाओं को संतुष्ट करते हैं।