+

चमत्कारी महुआ पेड़ के दर्शन के चलते हुई हिंसा, 12 पुलिसकर्मी हुए घायल, 5 गंभीर

Nov 14 2019 03:17 PM
चमत्कारी महुआ पेड़ के दर्शन के चलते हुई हिंसा, 12 पुलिसकर्मी हुए घायल, 5 गंभीर

भोपाल: मध्य प्रदेश के सतपुड़ा टाइगर रिजर्व स्थित महुआ पेड़ को देखने जुटे लोगों ने पुलिस पर हमला कर दिया। ग्रामीणों के हमले की वजह से एक दर्जन से अधिक पुलिसकर्मी घायल हो गए। इनमें से 5 की हालत नाजुक बताई जा रही है। पिछले दो महीने से लोग यहां आ रहे महुआ पेड़ को चमत्कारी बताकर। इस संवेदनशील इलाके में भीड़ के जुटने पर पुलिस रोक लगा रही थी जिसकी वजह से ग्रामीण उग्र हो गए और पुलिस पर ही हमला कर दिया। अडिशनल एसपी घनश्याम मालवीय ने बताया हैं की, 'स्थानीय ग्रामीणों ने पुलिसकर्मियों पर हमला किया। हमारी टीम वहां भीड़ को काबू करने गई थी।' उन्होंने बताया कि वह मामले को सुलझाने के लिए ग्रामीणों से बात कर रहे हैं। 

 होशंगाबाद के नयागांव निवासी किसान रूप सिंह ठाकुर से अफवाह शुरू हुई थी कि सतपुड़ा टाइगर रिजर्व जोन में लगे महुआ पेड़ में जादुई शक्ति है। जैसे ही यह अफवाह फैली, यहां रोज लोगों की भीड़ जुटने लगी।  हर रोज तकरीबन 30 हजार लोग यहां पेड़ को देखने के लिए आने लगे। दो महीने में यहां करोड़ों लोग पेड़ के दर्शन करआ चुके हैं। सिर्फ मध्य प्रदेश ही नहीं बल्कि पूरे देश से तकरीबन 10 लाख लोग इस टाइगर हैबिटेट में आ चुके हैं।

इस पेड़ के दर्शन के लिए जुटती भीड़ और जंगल में पहुंचता धूपबत्ती का धुआं स्थानीय प्रशासन, पुलिस और वन अधिकारियों के लिए चुनौती बन गया है। ऐसे में लोगों के यहां आने पर प्रतिबंध लगाया गया। इसके विरोध में बुधवार को हजारों लोग यहां इकट्ठा होने लगे, जिससे पुलिस और लोगों में टकराव हो गया। अफसरों का कहना है कि चमत्कारी पेड़ की कहानी पैसे कमाने के लिए गांव के कुछ लोगों ने तैयार की है।

Ind Vs Ban: आर अश्विन का बड़ा कारनामा, कुंबले और हरभजन के क्लब में हुए शामिल

माथे पर सिन्दूर और गोलडन ज्वेलरी पहनकर पति संग वेंकटेश्वर मंदिर पहुंची दीपिका

मध्य प्रदेश में कमलनाथ सरकार का 'हिंदुत्वादी कार्ड', बनाया जाएगा श्री राम वन पथ गमन