हंगामाई सांसदों को सुननी पड़ी स्पीकर की खरी -खरी

Apr 23 2015 06:45 PM
हंगामाई सांसदों को सुननी पड़ी स्पीकर की खरी -खरी
नई दिल्ली : दिल्ली के जंतर - मंतर पर हुई किसान आत्महत्या की गूंज संसद तक सुनाई दी। इस मसले पर विपक्ष सत्तापक्ष को घेरने की तैयारी में था। सांसद मल्लिकार्जुन खडगे ने मामले में विपक्ष की बात रखते हुए किसान आत्महत्या पर चिंता जताई। मामले में लोकसभा स्पीकर सांसद सुमित्रा महाजन ने उन्हें शांत रहकर सदन की कार्रवाई को प्रारंभ होने देने की अपील की लेकिन विपक्ष इस मसले पर हावी बना रहा। कुछ देर के हंगामे के बाद आखिरकार लोकसभा अध्यक्ष महाजन ने सांसदों को डपट दिया। आक्रोशित सांसदों का हंगामा बढ़ता देखकर स्पीकर सुमित्रा महाजन ने उन्हें शांत रहने और अपने स्थान पर बैठने की अपील की। 

मगर जब सांसद नहीं माने और अपना विरोध जताते रहे तो उन्होंने सभी को डपटते हुए कहा कि किसी को भी किसान की फिक्र नहीं है। सभी राजनीति कर रहे हैं। जब किसान आत्महत्या कर रहा था तब उसे रोकने कोई भी क्यों नहीं गया। विपक्ष ने सदन की कार्रवाई प्रारंभ होते ही इस बात पर चर्चा की अपील की। जिसके बाद स्पीकर महाजन ने कहा कि सदन में इस मसले पर चर्चा की जाएगी लेकिन सिलसिलेवार तरीके से जो मामले सामने हैं उन्हें लाया जाएगा। संसदीय कार्य मंत्री एम. वैकेया नायडू ने कहा कि सरकार इस मसले पर चर्चा के लिए तैयार है मगर मामले को लेकर स्पीकर को फैसला करना होगा । उन्होंने इस मसले पर राजनीति नहीं करने की अपील भी सभी सांसदों से की। संसद की कार्रवाई में सांसद बीच - बीच में इस मसले को उठाते रहें जब अधिक हंगामा हुआ तो सदन की कार्रवाई को दोपहर 12 बजे तक के लिए स्थगित कर दिया गया।