सोमनाथ ने खटखटाया उच्च न्यायालय का दरवाजा, की सुरक्षा की मांग

Sep 15 2015 04:58 PM
सोमनाथ ने खटखटाया उच्च न्यायालय का दरवाजा, की सुरक्षा की मांग

नई दिल्ली : दिल्ली के पूर्व कानून मंत्री सोमनाथ भारती अब दिल्ली उच्च न्यायालय की शरण में हैं। दिल्ली राज्य महिला आयोग ने घरेलू हिंसा और हत्या के प्रयास करने के मामले में सुरक्षा की मांग की। इस दौरान उन्होंने जमानत याचिका दायर की थी लेकिन कोर्ट ने उसे खारिज कर दिया। इसके बाद उनकी गिरफ्तारी तय मानी जा रही थी। मामले में यह कहा गया कि सोमनाथ भारती ने एक बार फिर से दिल्ली उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाया है।

जिसमें उन्होंने स्वयं की गिरफ्तारी से बचने के लिए सुरक्षा की मांग की है। मिली जानकारी के अनुसार न्यायमूर्ति बीडी आनंद और न्यायमूर्ति संजीव सचदेव की युगल पीठ ने जब मामले की सुनवाई की तो उनके वकील दयन कृश्णन ने दलील दी कि उनके मुवक्किल की गिरफ्तारी के पूरे आसार हैं। यही नहीं उन्होंने कहा कि सोमनाथ के खिलाफ जब जमानत याचिका ठुकरा दी गई तो गैर जमानती वारंट जारी कर दिया गया।

दूसरी ओर पूर्व कानून मंत्री सोमनाथ भारती की तलाश की जा रही है। दिल्ली पुलिस उनकी तलाश में जुट गई है। इस मामले में दिल्ली पुलिस ने विभिन्न स्थानों पर उन्हें तलाश किया लेकिन दिल्ली पुलिस को सफलता नहीं मिली। पुलिस भारती की तलाश में आगरा पहुंची मगर वहां आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने हंगामा मचा दिया। आप समर्थक भी कार्यकर्ताओं के साथ हंगामा करने लगे। इसके बाद पुलिस द्वारा कोर्ट में मांग की गई कि उसे सोमनाथ के श्वान को कस्टडी में लेेने दिया जाए। उल्लेखनीय है कि भारती पर अपनी पत्नी को कुत्ते से कटवाने के आरोप भी लगे थे। इस मामले में सोमनाथ भारती के वकील ने कहा कि आखिर पुलिस सोमनाथ के कुत्ते से कैसे पूछताछ करेगी।

मामले में कहा गया है कि लिपिका भारती ने सोमनाथ के विरूद्ध झूठी शिकायत दर्ज करवाई है। उल्लेखनीय है कि घरेलू हिंसा के मामले में उनकी पत्नी लिपिका ने उनके खिलाफ महिला आयोग में शिकायत की। जिस पर उन्हें बुलाया गया लेकिन सोमनाथ नहीं पहुंचे। इसके बाद निचली अदालत ने उनकी गिरफ्तारी के आदेश दिए तो उन्होंने जमानत के लिए याचिका दायर कर दी। यह याचिका खारिज करने के साथ अदालत ने उनके खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी कर दिया गया।