बाढ़ के मध्य ट्रैक्टर चलाकर शिकायत का निस्तारण करने गांव पहुंचे कोतवाल: उत्तर प्रदेश

सीतापुर: उत्तर प्रदेश से कई घटनाएं प्रत्येक दिन सामने आ रही है. वही अभी राज्य के सीतापुर में लहरपुर थाने में तैनात कोतवाल ओपी राय ट्रैक्टर पर सवार होकर मय फोर्स एक शिकायत का निस्तारण करने निकले. ट्रैक्टर पर कोतवाल साहब उनकी फोर्स को देखकर बहुत हैरान थे. बता दे की कोतवाल साहब के पास फोन पर मारपीट की कम्प्लेन आई थी. कम्प्लेन लहरपुर थाना क्षेत्र के रतौली ग्राम से आई थी. रतौली ग्राम नदी के किनारे है, जहां पर बाढ़ का जल भरा हुआ है. परन्तु कोतवाल ओपी राय के जज्बे को तो देखिए खुद ट्रैक्टर चलाकर मारपीट की कम्प्लेन का निस्तारण करने वक़्त पर पहुंचे और उसका निस्तारण किया. 

सामान्य रूप से पुलिस छोटी-छोटी शिकायतों को नजरअंदाज कर देती है, जिसके कारण वह बड़ी घटना का रूप ले लेती है. इन्हीं सब बातों को ध्यान में रखते हुए मारपीट की कम्प्लेन मिलने पर लहरपुर कोतवाल ओपी राय फोर्स के साथ रतौली गांव के लिए लौट गए. कोतवाल और उनकी टीम जब मार्ग में थी. तभी बांध के पानी के दौरान उनकी जीप आगे नहीं बढ़ पाई. कोतवाल ने समय पर जाने के लिए गांव वालों की सहायता से ट्रैक्टर ट्राली मंगवाई और उस ट्रैक्टर ट्राली पर गांव वालों के साथ अपने पुलिस बल को लेकर रतौली ग्राम के लिए चल दिए. इस ट्रैक्टर ट्राली के सारथी और कोई नहीं स्वयं कोतवाल ओपी राय बने थे.

साथ ही खतौली ग्राम में दीपू के द्वारा कम्प्लेन की गई थी. यह शिकायत की गई थी की जगदीश प्रताप आदि के द्वारा खेत में ट्रैक्टर चले जाने के विरोध को लेकर मारपीट कर रहे हैं और हाथों में असलहे लिए हुए हैं. इसी जानकारी पर कोतवाल ओपी राय रतौली ग्राम पहुंचे थे. पूरी घटना को लेकर कोतवाल ने जगदीश प्रताप समेत चार लोगों के विरुद्ध 307 का मुकदमा दर्ज कराया. वहीं कोतवाल की इस कार्यशैली को देखते हुए रतौली ग्राम के ही नहीं, बल्कि जिस किसी को भी जानकारी मिली कि वह कोतवाल ओपी राय की तारीफ करते हुए थक नहीं रहा है. 

बिहार में दूध डेयरी संचालक की गोली मारकर हत्या

नाग पंचमी : देशभर में प्रसिद्ध है नागदेवता के ये 3 मंदिर

खौफनाक बना सफर, कार पर ट्रेलर के पलटने से 6 की मौत

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -