सीट बंटवारा, 92 सांसदों का निलंबन, भाजपा के खिलाफ एकजुट लड़ाई..! आज कई मुद्दों पर मंथन करेगा INDIA गठबंधन

सीट बंटवारा, 92 सांसदों का निलंबन, भाजपा के खिलाफ एकजुट लड़ाई..! आज कई मुद्दों पर मंथन करेगा INDIA गठबंधन
Share:

नई दिल्ली: सीट-बंटवारे, संयुक्त अभियान खाका और 2024 के लोकसभा चुनावों में भाजपा को टक्कर देने की रणनीति तैयार करने सहित विभिन्न मुद्दों पर चर्चा करने के लिए विपक्षी INDIA गुट आज मंगलवार को दिल्ली में एक महत्वपूर्ण बैठक करेगा। छत्तीसगढ़, राजस्थान और मध्य प्रदेश में हाल के विधानसभा चुनावों में मिली हार के बाद एक कार्ययोजना पर चर्चा होने की उम्मीद है। यह बैठक महत्वपूर्ण है, क्योंकि यह संसद के शीतकालीन सत्र के बीच में हो रही है, जिसके दौरान विभिन्न विपक्षी दलों के कुल 92 सांसदों को सदन से निलंबित कर दिया गया था, जो किसी एक सत्र के दौरान सबसे अधिक है।

बता दें कि, सोमवार को, 78 विपक्षी सांसदों - लोकसभा से 33 और राज्यसभा से 45 - को निलंबित कर दिया गया, जो एक दिन में निलंबन की सबसे अधिक संख्या है। इस तरह 13 दिसंबर की लोकसभा सुरक्षा उल्लंघन की घटना पर विरोध प्रदर्शन करने और नारे लगाने के लिए कुल 92 सदस्यों को निलंबित कर दिया गया है। अशोक होटल में होने वाली बैठक से एक दिन पहले, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री और तृणमूल कांग्रेस (TMC) सुप्रीमो ममता बनर्जी ने कहा कि INDIA ब्लॉक के प्रधान मंत्री पद के उम्मीदवार का फैसला 2024 के आम चुनाव के बाद किया जाएगा। उन्होंने विश्वास जताया कि विपक्षी गठबंधन भाजपा को हराने के लिए सीट-बंटवारे सहित सभी मुद्दों को सुलझा लेगा।

उल्लेखनीय है कि, यह INDIA ब्लॉक की चौथी बैठक होगी। पहली बैठक 23 जून को पटना में हुई थी। दूसरी बैठक 17-18 जुलाई को बेंगलुरु में और तीसरी बैठक 31 अगस्त से 1 सितंबर के बीच मुंबई में हुई थी, जहां 27 विपक्षी दलों ने एकजुट होकर आगामी लोकसभा चुनाव लड़ने का प्रस्ताव अपनाया था।  झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन अपने व्यस्त कार्यक्रम के कारण आज दिल्ली में INDIA ब्लॉक की बैठक में शामिल नहीं होंगे। उनके गुमला में एक कार्यक्रम को संबोधित करने की उम्मीद है। 

हेमंत सोरेन की पार्टी झारखंड मुक्ति मोर्चा (JMM) INDIA बैठक के लिए अपने तीन प्रतिनिधियों को भेजेगी। बैठक में भाग लेने के लिए राज्यसभा सांसद महुआ माजी, लोकसभा सांसद विजय हंसदा और पार्टी महासचिव सुप्रियो भट्टाचार्य को नामित किया गया है। इससे पहले, बिहार सीएम नीतीश कुमार, बंगाल सीएम ममता बनर्जी, तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एमके स्टालिन, झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन और समाजवादी पार्टी (सपा) प्रमुख अखिलेश यादव सहित गठबंधन के शीर्ष नेताओं के शामिल न होने के फैसले के बाद इंडिया ब्लॉक की बैठक 17 दिसंबर तक के लिए स्थगित कर दी गई थी। यह बैठक पहली बार 6 दिसंबर को बुलाई गई थी।

कांग्रेस ने 6 दिसंबर को मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, तेलंगाना और राजस्थान के चुनाव नतीजे घोषित होने के दिन बैठक बुलाई थी। जबकि सबसे पुरानी पार्टी को मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान में हार का सामना करना पड़ा, हालाँकि उसने तेलंगाना में जीत हासिल की और के चंद्रशेखर राव के नेतृत्व वाली भारत राष्ट्र समिति (BRS) से सत्ता छीन ली। बिहार के मुख्यमंत्री और जदयू नेता नीतीश कुमार, शिवसेना (UBT) सुप्रीमो उद्धव ठाकरे, बिहार के उपमुख्यमंत्री और राजद नेता तेजस्वी यादव सहित कई विपक्षी नेता पहले ही राष्ट्रीय राजधानी पहुंच चुके हैं।

सोमवार को ममता बनर्जी ने दिल्ली के मुख्यमंत्री और AAP सुप्रीमो अरविंद केजरीवाल से मुलाकात की और देश के राजनीतिक हालात पर चर्चा की। बैठक के बाद, टीएमसी प्रमुख ने कहा कि वह देश भर में गठबंधन सहयोगियों के लिए प्रचार करने के लिए तैयार हैं। तेजस्वी यादव ने कहा कि पहले जो कमेटियां बनी थीं, वे पर्दे के पीछे काम कर रही हैं और अब चुनाव की तैयारी की जा रही है। उन्होंने कहा कि विपक्षी दल में हर कोई अपनी भूमिका निभाएगा और इस बात पर जोर दिया कि क्षेत्रीय दल बहुत मजबूत हैं। तेजस्वी ने कहा कि, "जहां भी क्षेत्रीय दल हैं, भाजपा कहीं नजर नहीं आती। ज्यादातर क्षेत्रीय दल INDIA ब्लॉक के साथ हैं।" 

बता दें कि, 2024 के लोकसभा चुनावों में भाजपा से लड़ने के लिए एक साथ आए 27 विपक्षी दलों के नेताओं के सामने मुख्य चुनौती सत्तारूढ़ व्यवस्था के मुकाबले के लिए एक वैकल्पिक साझा कार्यक्रम के साथ आना भी है। INDIA ब्लॉक के सामने तात्कालिक चुनौती एक संयोजक, एक प्रवक्ता और एक सामान्य सचिवालय पर आम सहमति बनाने की भी है, क्योंकि इसके घटकों के बीच मतभेदों के कारण यह एक पेचीदा मुद्दा है। हिंदी पट्टी में लगभग सफाया झेल चुकी कांग्रेस की स्थिति भी गठबंधन के भीतर कमजोर हो गई है। INDIA गुट के भीतर समीकरण बदलने वाले हैं, क्योंकि अन्य विपक्षी दल गठबंधन की धुरी के रूप में इसकी स्थिति को चुनौती देंगे। राजस्थान, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में भाजपा की हालिया जीत ने भी विपक्षी दलों पर एकजुट होने का दबाव बढ़ा दिया है। बैठक में पार्टियां एकता विषय - 'मैं नहीं, हम' - के साथ आगे बढ़ने का इरादा रखती हैं, लेकिन विपक्ष इसमें कितना सफल होता है, ये समय के साथ उजागर होता जाएगा।

नरेंद्र सिंह तोमर ने विधानसभा अध्यक्ष के लिए भरा नामांकन, कांग्रेस ने भी किया समर्थन

टेलीकॉम सेक्टर में होगा बड़ा बदलाव, सरकार ने संसद में पेश किया महत्वपूर्ण बिल

लखनऊ के अस्पताल में आग लगने से महिला और बच्चे की दुखद मौत

 

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -