युद्धवीरों की गाथा पर केंद्रीय गृहमंत्री ने किया पुस्तिका का विमोचन

Sep 25 2015 02:12 PM
युद्धवीरों की गाथा पर केंद्रीय गृहमंत्री ने किया पुस्तिका का विमोचन

नई दिल्ली : केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि सुरक्षा बलों के प्रयासों के चलते देश में नक्सली हिंसा में 35 प्रतिशत की कमी आई। इस दौरान पुस्तिका का विमोचन किया गया, जिसमें कच्छ रण क्षेत्र के सरदार पोस्ट में 1965 के भारत-पाकिस्तान युद्ध के अंतर्गत सीआरपीएफ के जवानों की वीरता और बलिदान के बारे में उल्लिखित किया गया है। केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह सीआरपीएफ के जवानों पर आधारित पुस्तिका का विमोचन करने पहुंचे। इस दौरान उन्होंने जवानों को संबोधित भी किया। 

केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि सुरक्षा बलों की वीरता की दाद देनी होगी। इनकी कर्मठता के कारण बहादुरीभरे प्रयासों के चलते वामपंथी उग्रवाद से प्रभावित राज्यों में 35 प्रतिशत की कमी आई। उन्होंने कहा कि केंद्रीय गृहमंत्री ने लद्दाख के हाॅट स्प्रिंग और दूसरे क्षेत्रों में बचाव के साथ सुरक्षा को बनाए रखने के लिए केंद्रीय रिज़र्व पुलिस बल ने शानदार कार्य किया है। कई क्षेत्रों में सीआरपीएफर्मियों द्वारा पराक्रम और त्याग की सराहना की गई।

1965 के रण में सरदार पोस्ट पर सीआरपीएफ की दो टुकडि़यों द्वारा मोर्चा संभाला गया। पाकिस्तानी सेना द्वारा जब हमला किया गया तो सेना ने इसका जवाब दिया गया। पाकिस्तानी सेना को भारत की फायरिंग से जमकर नुकसान उठाना पड़ा। दो अधिकारियों समेत 34 पाकिस्तानी सैनिकों को अपनी जान से हाथ धोना पड़ा। इस दौरान करीब 4 पाकिस्तानी सैनिकों को पकड़ लिया गया। सीआरपीएफ ने अपने जवानों की स्मृति में उनकी शौर्य गाथा चित्रों के तौर पर प्रकाशित करने का जो प्रयास किया है वह सराहनीय है। यह एक अच्छा प्रयास है। इन पुस्तिकाओं के विक्रय से मिलने वाली राशि का उपयोग शहीदों के परिवारों के कल्याण के लिए किया जाएगा।