परभणी लोकसभा सीट: 7 बार शिवसेना ने किया है कब्ज़ा, कांग्रेस देगी कड़ी टक्कर

परभणी लोकसभा सीट: 7 बार शिवसेना ने किया है कब्ज़ा, कांग्रेस देगी कड़ी टक्कर

मुंबई : 2019 लोकसभा चुनाव के दूसरे चरण के लिए महाराष्‍ट्र की 10 लोकसभा सीटों पर 18 अप्रैल को वोटिंग होनी है। इन 10 लोकसभा सीटों में से एक है परभणी सीट। इस सीट पर शुरू से शिवसेना का वर्चस्व रहा है। शिवसेना ने इस लोकसभा सीट पर पिछले चार चुनावों में लगातार जीत दर्ज की है। इस बार इस सीट पर 19 प्रत्याशी चुनावी संग्राम में हैं।

शिवसेना ने यहां अपने वर्तमान सांसद संजय हरिभाऊ जाधव को उम्मीदवार बनाया है। वहीं नेशनल कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) ने राजेश उत्‍तम राव को प्रत्याशी बनाया है। बसपा ने यहां से वैजनाथ सीताराम को उम्मीदवार बनाया है। उल्लेखनीय है कि परभणी लोकसभा सीट के अंतर्गत 6 विधानसभा सीट आती हैं। इनमें जिंतूर, परभणी, गंगाखेड़, पथरी, परतूर और घनसागंवी का नाम शुमार है। 1952 में यहां पहली बार हुए लोकसभा चुनाव में पीजेंट्स एंड वर्कर्स पार्टी ऑफ इंडिया के नारायणराव वाघमरे ने जीत हासिल की थी। 

परभणी लोकसभा सीट पर कांग्रेस के नागोराव पंगारकर ने 1957 में कब्ज़ा जमाया था। इसके बाद यह सीट 1977 तक  कांग्रेस के पास रही थी। 1977 में पीजेंट्स एंड वर्कर्स पार्टी ऑफ इंडिया ने फिर इस सीट से जीत दर्ज की। 1980 और 1984 में फिर कांग्रेस ने यहाँ से चुनाव जीता । इसके बाद 1989 में पहली बार शिवसेना ने इस सीट पर विजयी परचम फहराया। शिवसेना के अशोकराव देशमुख सांसद निर्वाचित हुए। 1996 तक यह सीट शिवेसना के ही कब्ज़े में रही। 1998 में कांग्रेस के सुरेश वारपुडकर ने यह सीट शिवसेना से छीन ली। 1999 में शिवेसना ने पुनः इस सीट पर कब्ज़ा जमाया। 1999 में शिवसेना के सुरेश जाधव यहां से निर्वाचित हुए। तब से यह सीट शिवसेना के पास ही है।

खबरें और भी:-

कोरबा पहुंचे पीएम मोदी, विधायक मंडावी और शहीद जवानों को दी श्रद्धांजलि

गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने लखनऊ लोकसभा सीट से भरा नामांकन

पाकिस्तान में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़, पांच आतंकी ढेर