हिजाब विवाद पर हर्षा को चाकुओं से गोद डाला था, अब इस मामले में NIA ने की छापेमारी

बैंगलोर:  कर्नाटक के शिवमोगा जिले में 26 वर्षीय हर्षा नामक बजरंग दल कार्यकर्ता के क़त्ल के मामले में गुरुवार (30 जून 2022) को राष्ट्रीय जाँच एजेंसी (NIA) ने शिवमोगा जिले में 13 स्थानों पर ताबड़तोड़ छापेमारी की है। जिन लोगों के घरों में तलाशी ली गई, वो सभी हर्षा मर्डर केस में संदिग्ध हैं। रिपोर्ट के अनुसार, NIA की टीम गुरुवार को 8 गाड़ियों से शिवमोगा पहुँची थी। इसके बाद टीम वहाँ पर संदिग्धों के घरों में छापेमारी करने के बाद वहाँ से रवाना हो गई। 

इस कार्रवाई को लेकर एक अधिकारी ने कहा कि आरोपित और संदिग्धों के घरों से छपेमाटी के दौरान विभिन्न डिजिटल उपकरण बरामद किए गए हैं, जिनमें मोबाइल फोन, सिम कार्ड, मेमोरी कार्ड, हार्ड डिस्क और अन्य आपत्तिजनक सामग्री और डाक्यूमेंट्स शामिल हैं। उल्लेखनीय है कि 20 फरवरी 2022 को शिवमोगा जिले में हिजाब विवाद के दौरान बजरंग दल के कार्यकर्ता हर्षा की हत्या कर दी गई थी। हर्षा की हत्या में इस्लामिक कट्टरपंथियों के शामिल होने की बात सामने आई थी। सोशल मीडिया पर ऐसी कई सारी पोस्ट सामने आई थीं, जिनमें हर्षा को कट्टरपंथियों ने निशाना बनाया हुआ था।

हर्षा की हत्या के मामले में कट्टरपंथी एंगल सामने आया था। इस हर्षा के क़त्ल के मामले में कर्नाटक पुलिस ने सभी 10 आरोपितों के खिलाफ गैरकानूनी गतिविधि रोकथाम अधिनियम (UAPA) की धाराएँ लगा दी थी। इस मामले को लेकर कर्नाटक के सीएम बसवराज बोम्मई ने कहा था कि इस मामले में जो दिख रहा है, यह उससे कहीं अधिक बड़ा मामला है।

बता दें कि UAPA ज्यादातर उन मामलों में लगाया जाता है, जहाँ राष्ट्रीय सुरक्षा से संबंधित मसला हो या देश के खिलाफ किसी बड़ी साजिश का संदेह हो। बाद में 23 मार्च को इस मामले की जाँच NIA को सौंपी गई थी। इसी को लेकर NIA ने ये छापेमारी की है।

पटना: कोर्ट में पेश कर रहे थे बरामद किया गया बम, तभी हो गया ब्लास्ट और...

उदयपुर हत्याकांड को सही ठहराने वाले कंटेंट को हटाया जायेगा

नेशनल डॉक्टर्स डे के खास अवसर पर आयुष्मान ने फैंस को दिया खास तोहफा

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -