क्राइस्टचर्च मस्जिद पर हुए हमले का वीडियो साझा करने वाले शख्स को 21 महीने की कैद

क्राइस्टचर्च मस्जिद पर हुए हमले का वीडियो साझा करने वाले शख्स को 21 महीने की कैद

वेलिंग्टन: न्यूज़ीलैंड के क्राइस्टचर्च मस्जिद गोलीबारी का वीडियो शेयर करने वाले एक शख्स को मंगलवार को 21 महीने कैद की सजा सुनाई गई है। इस हमले में 51 मुसलमानों की मौत हो गई थी, जो उस वक़्त नमाज पढ़ रहे थे। हमलावर ब्रेंटन टैरेंट ने 15 मार्च को दो मस्जिदों पर फायरिंग की थी। इस पूरे हमले का हमलावर ने ‘लाइव स्ट्रीम’ किया था, जिसका 44 वर्षीय फिलीप आर्प्स ने बाद में वीडियो साझा कर दिया।

इसी आरोप में बाद में आर्प्स को गिरफ्तार कर लिया गया था। आर्प्स को आपत्तिजनक सामग्री साझा करने के दो आरोपों का दोषी ठहराया गया। ‘न्यूजीलैंड हेराल्ड’ में प्रकाशित हुई खबर के मुताबिक क्राइस्टचर्च जिला अदालत के जज स्टीफन ओ ड्र्रिस्कॉल ने कहा है कि, ‘यह मुस्लिम समुदाय के खिलाफ एक घृणा अपराध था।’ 

न्यायाधीश ने कहा कि ऐसे हमले के कुछ दिन बाद उसका वीडिया शेयर करना क्रूर है। ‘रेडिया न्यूजीलैंड’ में प्रकाशित की गई खबर के मुताबिक ओ ड्र्रिस्कॉल ने पाया कि आर्प्स ने मुस्लिमों की मौत का ‘महिमामंडन’ करने के लिए हमले का वीडियो साझा किया था और कारावास के अलावा कोई और सजा इसके लिए सही नहीं होगी। आपको बता दें कि इसी वर्ष मार्च में न्यूज़ीलैंड की दो मस्जिदों में हमला कर दिया गया था, जिसमे कई लोगों की मौत हो गई थी।

बुरे दौर से गुज़र रहे अनिल अम्बानी को बड़ा झटका, चीन ने 15 हज़ार करोड़ का ऋण चुकाने को कहा

अमित शाह के ट्वीट से बौखलाया पाक, कहा - स्ट्राइक और क्रिकेट मैच की तुलना ना करें

आयुर्वेद को नई पहचान देने जा रहा WHO, अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर लांच करेगा एप