ऋणदाताओं की संपत्ति की गुणवत्ता में गिरावट को रोकने के लिए मूडीज ने किया ये काम

मूडीज इन्वेस्टर्स सर्विस ने कहा कि इंडियन नॉनबैंक लेंडर्स द्वारा लोन कलेक्शन में 2020-21 (अप्रैल-मार्च) की पहली छमाही में सुधार किया गया है, इंडियाबुल्स हाउसिंग फाइनेंस लिमिटेड और आईआईएफएल फाइनेंस लिमिटेड में देरी देखी जा रही है। रेटिंग एजेंसी के अनुसार ऋण अदायगी पर छह महीने की रोक सहित अधिकारियों द्वारा उठाए गए विभिन्न उपायों ने ऋणदाताओं की संपत्ति की गुणवत्ता में भारी गिरावट को रोक दिया।

मूडीज ने कहा "हम उम्मीद करते हैं कि अंतत: आईआईएफएल फाइनेंस और इंडियाबुल्स (हाउसिंग फाइनेंस) में देरी बढ़ जाएगी, क्योंकि भारत के अर्थव्यवस्था पर महामारी के प्रभाव की गंभीरता को देखते हुए समर्थन कार्यक्रम समाप्त हो गए हैं।" इन दो उधारदाताओं की संपत्ति की गुणवत्ता को कमजोर करने से ऋण लागत में वृद्धि होगी और उनकी लाभप्रदता को चोट पहुंचेगी। हालांकि, ऋण असाइनमेंट में मामूली वृद्धि और विकास, या बैंकों को ऋण की बिक्री, उन्हें पूंजीकरण बनाए रखने में मदद करेगी।

इसके विपरीत मूडी का मानना है कि MuthootFinance.in की मजबूत लाभप्रदता इसे मजबूत चालू स्तर पर पूंजीकरण और वित्त पोषण बनाए रखने में मदद करेगी। कंपनी ने सोने की कीमतों में वृद्धि के कारण लाभप्रदता और संपत्ति की गुणवत्ता में सुधार को देखा और ऋण वसूली और संवितरण की सहायता की।

सरकार ने बैंकिंग और बीमा क्षेत्र में विनिवेश में मदद करने के लिए नियुक्त किए सलाहकार

खंड अंतरराष्ट्रीय स्टॉक के साथ तकनीकी महिंद्रा पार्टनर्स ने की साझेदारी

पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह करेंगे सुखजीत स्टार्च के मेगा फूड पार्क का उद्घाटन

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -