MHRD ने युवाओं के लिए शुरू किया "स्वच्छ भारत" समर कैम्प

मानव संसाधन विकास मंत्री श्री प्रकाश जावडेकर ने छात्रों से आगे आकर पूरे देश में चलने वाले कार्यक्रम  ‘स्वच्छ भारत ग्रीष्म प्रशिक्षण-स्वच्छता के 100 घंटे’ में भाग लेने का आग्रह किया। पेयजल व स्वच्छता मंत्रालय के सहयोग से मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने ‘स्वच्छ भारत ग्रीष्म प्रशिक्षण-स्वच्छता के 100 घंटे’ अभियान का शुभांरभ किया है, ताकि स्वच्छता संबंधी कार्य तथा गांव के विकास के लिए युवाओं को जोड़ा जा सके। 1 मई से 31 मई 2018 तक चलने वाले इस कार्यक्रम का उद्देश्य स्वच्छता संबंधी कार्यों के लिए युवाओं के कौशल तथा भावना को विकसित करना तथा ग्रामीण क्षेत्रों में सामुदायिक कार्यों के लिए उन्हें जोड़ना है। इस कार्यक्रम को महात्मा गांधी की 150वीं जयंती को ध्यान में रखते हुए तैयार किया गया है।

कॉलजों और विश्वविद्यालयों में अध्ययन कर रहे छात्र, स्वच्छ भारत ग्रीष्म प्रशिक्षण कार्यक्रम के लिए आवेदन कर सकते हैं। उम्मीदवार व्यक्तिगत रूप से या टीम के रूम में भाग ले सकते हैं। नोडल अधिकारियों के परामर्श से स्थान और टीम का आकार तय किया जा सकता है। वेबसाइट के माध्यम से नामांकन के पश्चात नोडल अधिकारी की मंजूरी के बाद उम्मीदवार को स्वीकार किया जाएगा। उम्मीदवारों को ग्रामीण क्षेत्रों में स्वच्छता संबंधित गतिविधियों में कम से कम 100 घंटे देने होंगे। नामांकन की अंतिम तिथि 15 मई 2018 है।

कॉलेज स्तर पर विजेताओं को शील्ड/कप तथा विशेष प्रमाण पत्र दिये जाएंगे। प्रमाणपत्रों के अतिरिक्त नगद पुरस्कार निम्न अनुसार प्रदान किये जाएंगे। विश्वविद्यालय स्तर पर-उपयुक्त प्रमाण-पत्रों के साथ 30 हजार रुपये, 20 हजार रुपये तथा 10 हजार रुपये का नगद पुरस्कार। राज्य स्तर पर-उपयुक्त प्रमाण-पत्रों के साथ 50 हजार रुपये, 30 हजार रुपये तथा 20 हजार रुपये का नगद पुरस्कार। राष्ट्रीय स्तर पर - उपयुक्त प्रमाण-पत्रों के साथ 2 लाख रुपये, 1 लाख रुपये तथा 50 हजार रुपये का नगद पुरस्कार।

फिर बदलेगा मौसम का मिज़ाज

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -