सिर्फ भारतीय नहीं जापानी संसद का भी है यही हाल

Sep 18 2015 03:27 PM
सिर्फ भारतीय नहीं जापानी संसद का भी है यही हाल

टोक्यो : जापान की संसद के शीर्ष सदन ने सुरक्षा नीति पर चर्चा की। इस दौरान कहा गया कि जापान अब अपने सैनिकों को बाहर कहीं भी लड़ाई के लिए भेज सकता है। यही नहीं समिति की बैठक में कहा गया कि विपक्षी सांसदों को बेवजह रोकने का प्रयास किया गया है। जिसे लेकर सांसदों के बीच धक्कामुक्की हो गई। सांसद आपस में विवाद करने लगे और एक दूसरे से हाथापाई भी करने लगे। 

मिली जानकारी के अनुसार कुछ सांसदों ने इस मसले पर पारित होने वाले विधेयक को नामंजूर करने का प्रयास किया। मिली जानकारी के अनुसार हालात ये रहे कि अध्यक्ष से माईक्रोफोन तक छिनने का प्रयास किया गया। जब कुछ भारतीय दर्शकों ने जापान की संसद की इस कार्रवाई का समाचार देखा तो वे इस बात पर संतुष्ट नजर आए कि चलिए संसद में झगड़े, हंगामे में समय केवल भारत में ही ज़ाया नहीं किया जाता।

मामले में विरोधियों ने इस बिल को किसी भी तरह से पेश नहीं होने देने का प्रयास किया। मामले में यह बात भी सामने आई कि सूट-बूट समिति के सदस्य एक दूसरे को धकियाते, खींचते और शोर मचाते रहे। प्रधानमंत्री शिंजो आबे भी संसद में उपस्थित थे लेकिन उनके प्रयासों का भी जोर नहीं चला। संसद के बाहर प्रदर्शन भी हुआ। इस दौरान तेज बारिश होती रही लेकिन 500 लोग संसद के बाहर खड़े होकर अपना विरोध जताते रहे। लोगों ने छाते दिखाते हुए इस बिल को रोको की नारेबाजी की।