मूर्तियों को स्थानांतरित करने से तमिलनाडु में कानून-व्यवस्था की बढ़ सकती है मुश्किलें

चेन्नई: मद्रास उच्च न्यायालय ने रानीपेट जिले में बीआर अंबेडकर की एक प्रतिमा को हटाने के विरोध में दायर एक याचिका को खारिज कर दिया। न्यायमूर्ति एसएम सुब्रमण्यम ने राज्य प्रशासन को राज्य भर में कई राजनीतिक हस्तियों और व्यक्तियों की मूर्तियों को खोजने और उन्हें 'लीडर पार्क' में स्थानांतरित करने का आदेश दिया था।

हालांकि सरकार ने अभी तक निर्देश का जवाब नहीं दिया है, लेकिन समुदाय के नेताओं और अधिकारियों ने अदालत के फैसले पर चिंता व्यक्त की है। हालांकि  तिरुचि जिले में 152 मूर्तियां हैं, जिनमें पूर्व सीएम एमजी रामचंद्रन की 35, पेरियार की 29, कामराजार की 20 और महात्मा गांधी की 17 मूर्तियां शामिल हैं। वीसीके के एक अधिकारी तमीज़ानाथन का भी ऐसा ही संदेश था कि एक कॉलोनी में अंबेडकर की मूर्ति होने से निवासियों को सुरक्षा और शक्ति का एहसास होता है।

वे लोगों के जीवन के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण हैं, और उनके निष्कासन के विनाशकारी प्रभाव होंगे। इस पर सरकार सोच-समझकर फैसला लेगी। इस बीच, हाल ही में अटकलें लगाई जा रही थीं कि भारतीदासन सलाई में मुथरैयूर की मूर्ति को एक ओवरहेड वॉकवे के विकास के लिए रास्ता बनाने के लिए स्थानांतरित किया जाएगा। कई मुथारायुर संगठन नाराज हो गए और उन्होंने शहर में बड़े पैमाने पर प्रदर्शन शुरू कर दिए।

देश के 3 उच्च न्यायालयों को मिलेंगे नए जज, राष्ट्रपति ने दी मंजूरी

T20 मैच: भारत की हार पर पंजाब में जश्न क्यों ? कॉलेज में लगे PAK समर्थित नारे

एलुरु सब-रजिस्ट्रार के खिलाफ यौन उत्पीड़न का मामला हुआ दर्ज

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -