जानिए क्या है राष्ट्रीय पर्यटन दिवस का इतिहास

25 जनवरी को राष्ट्रीय पर्यटन दिवस सेलिब्रेट किया जा रहा है. जहॉं कल हमारा देश गणतंत्र दिवस मनाने जा रहा है. वही आज का दिन भी काफी खास है. आज भारतीय पर्यटन दिवस है जो कि भारत के इतिहास का एक और गौरवशाली दिवस है.विवधता में एकता हमारे देश की खासियत है. अनेकों विविधताएं लिए हमारा देश अपने खूबसूरत पर्यटन स्थलों के कारण समूचे विश्व में अपना विशेष स्थान लिए सभी के दिलों पर छाया हुआ है. पर्यटन के चलते भारत की आर्थिक व्यवस्था पर भी बहुत सकारात्मक प्रभाव हुआ है. विश्व भर के लोग भारत के दर्शनीय स्थलों को देखने हर वर्ष यहाँ आते हैं और इससे हमारा आर्थिक स्तर भी बहुत बढ़ा है.

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि भारतीय संस्कृति और सभ्यता को दर्शाते ये रमणीय स्थल सिर्फ विदेशी मेहमानों को ही नहीं, वरन समस्त भारतवासियों के लिए भी आकर्षण का केंद्र रहे हैं और हमेशा रहेंगे. आंकड़ों के अनुसार भारत के पर्यटन उद्योग से लगभग 7.7 प्रतिशत लोग अपनी आजीविका चला रहे हैं. प्रतिवर्ष लगभग 7.5 मिलियन विदेशी भारत दर्शन को आते हैं. यह भारत के गौरवशाली इतिहास की ही देन है कि यहाँ के आकर्षण की ज्योत कभी कम नहीं हो सकती.पर्यटन के क्षेत्र में लगातार हो रही प्रगति के कारण आर्थिक सुधार और रोज़गार के क्षेत्र में विकास हुआ है.

अगर आपको नही पता तो बता दे कि भारत देश में अनेकों पर्यटक स्थल हैं, किन्तु उनमें से कुछ मुख्य तौर पर जाने जाते हैं. ताज महल, लाल किला, पुष्कर, आमेर का किला, हुमायूं का मक़बरा, उदयपुर का सिटी पैलेस, जैसलमेर का सोनार किला, जोधपुर का मेहरानगढ़ किला, अमृतसर का स्वर्ण मंदिर, जयपुर का हवा महल, जंतर मंतर, इंडिया गेट, मैसूर पैलेस, गोलकोंडा फोर्ट और भी कई अनेकों पर्यटक स्थल हैं जिनके इतिहास ने हर वर्ग के लोगों में एक ऐसा आकर्षण पैदा किया है कि इन स्थानों को देखे बिना पर्यटक अपना सफर अधूरा मानते हैं. 

जोशीमठ के बाद अब बद्रीनाथ हाईवे पर मंडराया बड़ा 'खतरा', मची खलबली

मंत्री संदीप सिंह के खिलाफ खाप पंचायत ने खोला मोर्चा, जानिए पूरा मामला

प्रेग्नेंट हुई 7वीं की छात्रा, मामला सामने आते ही दंग रह गए सभी

न्यूज ट्रैक वीडियो

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -