जानिए भाजपा को क्या हुआ नफा - नुकसान

नई दिल्ली : कर्नाटक में बीजेपी भले ही सरकार बनाने के लिए सात सीटों का इंतजाम नहीं कर पाई , भले ही बीजेपी ने गत लोकसभा चुनाव में 282 सीटें जीती थी जो घटकर 272 हो गई लेकिन पार्टी को चंदे में एक साल में मिले 456 करोड़ के चंदे ने उसकी झोली भर दी है.

आपको बता दें कि वर्ष 2015 -16 में भाजपा को 76 . 85 करोड़ और 2016 -17 में पार्टी ने 532 करोड़ 27 लाख का चंदा मिला था .एक साल में ही बीजेपी को मिलने वाले चंदे में 456 करोड़ की वृद्धि हुई है. यह जानकारी एसोसिएशन फ़ॉर डेमोक्रेटिक राइट्स यानी एडीआर की ताज़ा रिपोर्ट से मिली है. खास बात यह है कि इसमें 20 हज़ार से कम मिली राशि का तो जिक्र ही नहीं है. 2016 -17 में सभी पार्टियों को कुल 590 करोड़ मिले . इसमें से बीजेपी को 532 करोड़ मिला है. कांग्रेस को 42 करोड़ और अन्य दलों को 16 करोड़ का चंदा मिला.

उल्लेखनीय है कि वित्त वर्ष 2016-17 में सत्या इलेक्टोरल ट्रस्ट नाम की एक कंपनी ने अकेले ही बीजेपी को 251.22 करोड़ रुपए चंदे में दिए, जो कुल चंदे का 47.19 फीसदी है. जबकि इसी कम्पनी ने कांग्रेस को भी 13.90 करोड़ रुपए का चंदा दिया. कुल 2123 संस्थाओं ने 20 हज़ार से ज्यादा का चंदा दिया. इनमें से 1194 ने बीजेपी को और 599 कांग्रेस को चंदा दिया . इससे यह पता चल गया कि भाजपा को सीटों में नुकसान हुआ लेकिन चंदे में नफा हुआ.

यह भी देखें

हार के बाद भाजपा में मंथन शुरू

मप्र: कमलनाथ ने बढ़ाया माया की ओर हाथ

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -