भारत के अंदरूनी हालातों पर कसूरी ने की पुस्तक में विवादित टिप्पणी

Sep 07 2015 08:10 PM
भारत के अंदरूनी हालातों पर कसूरी ने की पुस्तक में विवादित टिप्पणी

लाहौर : भारत के पूर्व प्रधानमंत्री और भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी ने कारगिल युद्ध के दौरान पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ से फोन पर ट्रेजडी किंग दिलीप कुमार से भी बात करवाई थी। दरअसल भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी ने फोन कर पाकिस्तानी प्रधानमंत्री नवाज शरीफ से कारगिल युद्ध को लेकर चर्चा की गई थी। इस दौरान वाजपेयी ने नवाज शरीफ की निंदा की और कहा कि लाहौर में भव्य स्वागत किए जाने के बाद उन्हें इसकी कोई उम्मीद नहीं थी।

मामले में शरीफ द्वारा कहा गया कि उन्हें इसकी जानकारी नहीं है। उन्हें कारगिल के बारे में कुछ भी पता नहीं है। सेना प्रमुख परवेज मुशर्रफ से चर्चा करने के बाद वे फोन करने की बात कर रहे हैं। मगर इसके पूर्व वाजपेयी ने शरीफ को लेकर कहा कि उनके सामने कोई व्यक्ति मौजूद हैं और वे नवाज से बात करना चाहते हैं। जब नवाज शरीफ ने वह आवाज़ सुनी तो वे भौचक्के रह गए दरअसल वह आवाज़ हिंदी सिनेमा के अभिनेता दिलीप कुमार की थी।

यह खुलासा पाकिस्तान के पूर्व विदेश मंत्री खुर्शीद कसूरी ने हाल ही में लिखी गई अपनी किताब मे इस बात का उल्लेख किया है। हालांकि इस पुस्तक में उन्होंने कुछ ऐसी बात लिखी है जिसमें भारत की छवि को प्रभावित करने की बात लिखी गई है। जब दिलीप कुमार ने नवाज से बात की तो उन्होंने कहा कि भारत में धार्मिक भावनाऐं भड़काने का प्रयास भी किया गया है। 

उन्होंने कहा कि हम आपकी ओर से इस तरह की उम्मीद बिल्कुल भी नहीं करते हैं आप तो भारत - पाकिस्तान के बीच शांति कायम रखना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि जब कभी भी भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव होता है तो भारत में निवास करने वाले मुस्लिम स्वयं को असुरक्षित महसूस करते हैं। ये लोग अपने घरों से निकलने में भी डरते हैं। इसलिए इस लड़ाई को रोकने के लिए कुछ कीजिए। उल्लेखनीय है कि दिलीप कुमार को पाकिस्तान की ओर से सिविलियन सम्मान निशान - ए - इम्तियाज से सम्मानित किया गया।