असल जिंदगी की घटना पर आधारित है फिल्म 'जस्ट मर्सी', जानिए रिव्यू

असल जिंदगी की घटना पर आधारित है फिल्म 'जस्ट मर्सी', जानिए रिव्यू

हम सभी ने जिंदगी में अपनी शुरुआत से लेकर अभी तक अन्याय और अत्याचार की कई कहानियां सुनी होगी. लेकिन आप इन चीजों के बारे में कितना भी सुन ले एक नई कहानी, एक नई पहल, एक नया इंसान आपको हमेशा चौंका देता ही है. ऐसी ही एक कहानी है हॉलीवुड फिल्म जस्ट मर्सी की. जी हां, इस फिल्म की कहानी भी कुछ इस प्रकार है जो दर्शकों को चौका देने वाली हैं. 

फेमस अभिनेता माइकल बी जॉर्डन और जेमी फॉक्स की इस फिल्म में आप एक इंसान को एक समुदाय के व्यक्ति को ऐसे क्राइम की सजा भुगतते देखेंगे जो उसने कभी किया ही नहीं. बॉलीवुड से लेकर हॉलीवुड तक में कई कोर्टरूम ड्रामा फिल्में बनी हैं, लेकिन तब भी जस्ट मर्सी अपनी एक अलग जगह बनाती है. आइये जानते है फिल्म की कहानी के बारे में... 

ये कहानी है वॉल्टर 'जॉनी डी' मकमीलन (जेमी फॉक्स) की, जिसपर एक 18 साल की बच्ची के कत्ल का झूठा इल्जाम लगाया गया है. जॉनी डी इस अपराध की सजा अलबामा के डेथ रौ जेल में काट रहा है. ये यूएस का सबसे बड़ा जेल है, जहां अपराधियों को उनके अपराध की वजह से रखा जाता है और कईयों को मौत की सजा सुनाई जाती है. जॉनी डी, 6 साल से अपने सजा को खत्म कर घर जाने का इंतजार कर रहा है लेकिन कोई उसकी मदद के लिए नहीं आ रहा. वहीं हार्वर्ड यूनिवर्सिटी से कानून की पढ़ाई करके निकले ब्रायन स्टीवेंसन (माइकल बी जॉर्डन) डेथ रो के उन कैदियों की मदद करने का निर्णय लेता है, जिनपर झूठे इल्जाम लगे हैं. क्या ब्रायन, जॉनी डी की मदद कर उसे न्याय दिला पाएगा, यही फिल्म में देखने वाली बात है.

अगर फिल्म में एक्टिंग के बारे में बात करें तो सभी कलाकारों ने उम्दा अभिनय किया है. जस्ट मर्सी आपको इंसान की जिंदगी के बहुत से अलग पहलु दिखाएगी. साथ ही आपको पता चलेगा कि ये दुनिया किसी के लिए भी निष्पक्ष या ईमानदार नहीं है. एक्टिंग की बात करें तो माइकल बी जॉर्डन और जेमी फॉक्स ने बढ़िया काम किया है. इन दोनों का रिश्ता और दोस्ती देखने लायक है. माइकल अपनी एक्टिंग और अपने भावों को खूबसूरती से दिखाते हैं. जेमी का दर्द आपको खुद का दर्द लगेगा.

सपोर्टिंग कास्ट में कैप्टन मार्वल की एक्ट्रेस ब्री लारसन, रॉब मॉर्गन, टीम ब्लेक नेल्सन, राफे स्पैल संग अन्य एक्टर्स हैं. इन सभी का काम बहुत अच्छा है. फिल्म की सिनेमेटोग्राफी अच्छी है. एक जेल के कमरे से लेकर बाहरी दुनिया तक को देखते हुए आप इस फिल्म में खो जाते हैं. फिल्म का म्यूजिक भी अच्छा है. कुल-मिलाकर आपको इस फिल्म को एक बार तो देखना चाहिए. ये फिल्म असल में जिंदगी की घटना पर आधारित है, जो इसे देखना और जरूरी बनती है.

मार्क रफालो को इस किरदार के लिए बढ़ाना पड़ेगा वजन, शूटिंग से ली कई हफ्तों की छुट्टी

हॉलीवुड एक्ट्रेस लिंडसे लोहान की मां को इस गलती के लिए जेल में बिताने पड़ सकते 6 महीने

इस मॉडल की कामुक अदाओं के दीवाने हो जाएंगे आप, यदि एक बार देख ली फोटोज