भीषण बर्फ़बारी में भी सरहद पर मुस्तैद हैं 'देश के रखवाले'.. देखें तस्वीरें

श्रीनगर: इन दिनों कश्मीर में भारी बर्फबारी हो रही है, यहां तापमान भी शून्य से 20 से 25 डिग्री नीचे है. ऐसी खून जमा देने वाली ठंड के बाद भी जवानों के हौसले बुलंद हैं और वे सरहद पर पूरी मुस्तैदी से ड्यूटी कर रहे हैं. ऐसी कड़ाके की ठंड में जब हम सब अपने घरों में रजाइयों से बाहर निकलना तक पसंद नहीं करते, उसी समय हमारे देश के रखवाले भारी बर्फबारी के बीच भी सरहदों की सुरक्षा में दिन-रात एक किए तैनात रहते हैं.   

इंडियन आर्मी के जवान इस कंपकंपाती ठंड में भी देश की रक्षा में मुस्‍तैदी से डटे हुए हैं. भारतीय सेना के जवान जम्‍मू कश्‍मीर में भारी बर्फबारी के बीच हर मुश्किल का सामना करते हुए नियंत्रण रेखा (LoC) पर गश्‍त करते नजर आ रहे हैं. इंडियन आर्मी की कुछ चौकियां करीब 17,000 फीट की ऊंचाई पर स्थित हैं. ठंड की वजह से यहां पाइपों में पानी जम चुका है. ऐसे में जवानों को पीने के लिए बर्फ को उबालना पड़ता है. नियंत्रण रेखा के साथ कश्मीर घाटी की अग्रिम पोस्ट पर भीषण बर्फबारी हो रही है. इसके बाद भी इंडियन आर्मी के जवान प्रतिकूल मौसम में भी अपनी ड्यूटी कर रहे हैं. 

LoC के ऊंचाई वाले अग्रिम इलाकों में भारी बर्फबारी के बीच इंडियन आर्मी मूवमेंट के लिए स्‍नो स्‍कूटर्स का भी प्रयोग कर रही है. वाहन को एक स्थान से दूसरे स्थान ले जान के लिए टायरों में जंजीरों का इस्तेमाल किया जा रहा है.  श्रीनगर, शोपियां समेत कई इलाके बर्फ की सफेद चादर से ढके हुए दिखाई दे रहे हैं, जो देखने में तो बेहद सुन्दर लगते हैं, मगर इसी बर्फ के कारण स्‍थानीय लोगों को कड़ाके की ठंड और भारी समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है.

LoC की रखवाली करने वाले जवानों को भीषण सर्दियों के महीनों में भी हाई अलर्ट पर रखा गया है, क्योंकि विशेषज्ञों का मानना ​​है कि बर्फबारी में कम दृश्यता की वजह से आतंकवादियों द्वारा घुसपैठ की कोशिशें हो सकती हैं, LoC पार करने के लिए मिलिटेंट कम दृश्यता का फायदा उठा सकते हैं. 

दिल्ली में पानी की कमी से धंस रही जमीन, IGI एयरपोर्ट पर मंडराया सबसे बड़ा ख़तरा - स्टडी

FIH ने पेनल्टी कार्नर के लिए बनाए नए रूल्स

फ्रेंच नेशनल असेंबली ने वैक्सीन पास कानून अपनाया

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -