20 वर्षीय शहीद सिपाही की मां ने गर्व से ​कही यह बात

पंजाब के पठानकोट में अभी शादी नहीं हुई थी, इसलिए मां ने माथे पर सेहरा और कलगी सजाकर 20 वर्षीय शहीद बेटे को अंतिम विदाई दी. शवयात्रा निकलने से पहले उसने बेटे को सेल्यूट करके कहा, शहादत पर गर्व करती हूं, शत शत नमन

इस मिशन के तहत विदेश से स्वदेश लौटे 800 भारतीय

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि भारतीय सेना की 7 डोगरा रेजीमेंट के 20 वर्षीय सिपाही सौरभ कुमार चंडी मंदिर पोस्ट पर ड्यूटी के दौरान हादसे में शहीद हो गए. रविवार देर शाम को तिरंगे में लिपटी उनकी पार्थिव देह को चंडी मंदिर से मिलट्री अस्पताल पठानकोट लाई गई, जहां रात रखने के बाद सोमवार को पार्थिव शरीर पैतृक गांव पठानकोट जिले के गांव भटोआ ले जाई गई. वहां पूरे सैन्य सम्मान से शहीद का अंतिम संस्कार किया गया.

यहां पर 5.5 तीव्रता के साथ लगे भूकंप के झटके

अगर आपको नही पता तो बता दे कि तिरंगे में लिपटी शहीद सौरभ कुमार की पार्थिव शरीर जब गांव भटोआ पहुंचा तो माहौल गमगीन हो गया. इकलौते बेटे का पार्थिव शरीर देखकर मां बदहवास हो गई. जैसे-तैसे खुद को संभाला और फिर शहीद बेटे के माथे पर सेहरा-कलगी सजाया. बहन डिंपल ने भी भाई की कलाई पर राखी बांधकर उसे अंतिम विदाई दी तो यह दृश्य देखने वाले हर शख्स की आंख नम हो गई.

केंद्रीय मंत्री रेणुका सिंह का बड़ा बयान, कहा-बेल्ट से पीटना मुझे भी आता..

वेंकैया नायडू ने दिए संकेत, जल्द हो सकते है राज्यसभा चुनाव

तबाही मचा रहा कोरोना, 1,45,380 लोगों हुए कोरोना संक्रमित

 

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -