जानिए कैसे शराब लीवर को कर देती है बर्बाद

बॉडी में दूसरा सबसे बड़ा अंग माना जाने वाला अंग लीवर है. बदलते खान-पान के स्टाइल ने फैटी लीवर रोग के मरीज़ों में वृद्धि कर दी है. इसमें सबसे प्रमुख शराब है, जिसकी वजह से लीवर लगातार क्षतिग्रस्त होता जाता है.

आजकल लीवर से जुड़ी बीमारियां तेजी से बढ़ रही हैं. ऐसा शराब और बिगड़ते लाइफस्टाइल की वजह से हो रहा है. शराब के सेवन से आंतों के जीवाणु लीवर में चले जाते हैं, जिससे लीवर संबंधित बीमारियां होती हैं. शोधकर्ताओं के मुताबिक, शराब आंतों में प्राकृतिक एंटीबायोटिक के निर्माण को कम करते हैं और लीवर में जीवाणुओं के विकास में सहायता पहुंचाते हैं, जिससे लीवर की बीमारियां होती हैं.

एल्कोहलिक फैटी लीवर शराब से संबंधित लीवर की शुरुआती बीमारी है. अधिक मात्रा में शराब का सेवन करने के कुछ घंटे के अंदर ही फैटी लीवर की स्थिति बन सकती है. शराब के लगातार और लम्बे समय से सेवन के कारण हेपेटाइटिस जैसी गंभीर बीमारियां पनप सकती हैं. 

लिवर खराब होने के लक्षण: भूख न लगना, वजन कम होना, पीलिया, बुखार, कमजोरी, उल्टी, पेट में पानी भर जाना, खून की उल्टियां होना, रंग काला होने लगना, पेशाब का रंग गहरा होना आदि. यह लीवर को सख्त कर देता और सिकुडऩे देता है.

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -