मानवाधिकार आयोग को अधिकार संपन्न बनाने की मांग

नई दिल्ली : राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग के अध्यक्ष एच एल दत्तु ने आयोग के वर्तमान अधिकारों को नाकाफी बताते हुए इसे और अधिकार दिए जाने की मांग की है. टाइम्स आफ इण्डिया की खबर के अनुसार एचएल दत्तु ने कहा एनएचआरसी बिना दांत के बाघ की तरह है. हम बड़ी मेहनत के साथ मानवाधिकार उल्लंघन के मामलों की जांच करते हैं.

बेहद कम संसाधनों के बावजूद दूर दराज के इलाकों में जाकर साक्ष्य इकट्ठा करते हैं और उसे फारेंसिक साइंस को जांच के लिए भेजते हैं. आखिर में जब आयोग किसी नतीजे पर पहुँचता है तो वह केवल सुधारात्मक उपाय की सिफारिश ही कर सकता है या सम्बन्धित राज्य को मुआवजा देने का निर्देश दे सकता है.

हम अधिकारियों को अपनी सिफारिश मानने के लिए पत्र लिखते हैं, लेकिन यह बात उन अधिकारियों की इच्छा पर निर्भर है कि वे सिफारिशों को मानें या मानें. सांसदों को इस बारे में विचार-विमर्श कर ऐसा निर्णय करना चाहिए कि अधिकारी आयोग की सिफारिशों को मानने के लिए बाध्य हो.

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -