प्रदूषण को लेकर हालात गंभीर, दिल्ली में टूटा 17 वर्षों का रिकाॅर्ड

नई दिल्ली : दिल्ली में प्रदूषण को लेकर स्थिति खतरनाक बनी हुई है हालात ये हैं कि हर ओर कोहरे जैसी परत नज़र आ रही है लेकिन यह कोहरा नहीं है। यह धुंए का धुंधला आवरण है। हालात ये हैं कि बीते 17 वर्षों में इस तरह के धुंए से निर्मित आवरण को अब तक की सबसे बड़ी धुध माना जा रहा है। हालात ये हैं कि बच्चों को घर से बाहर न निकलने के लिए कहा गया है। दिल्ली के निजी विद्यालयों और सरकारी विद्यालयों में अवकाश घोषित कर दिया गया है।

मिली जानकारी के अनुसार हरियाणा में भी कुछ ऐसे ही हालात बने हैं प्रदूषण का अमानक स्तर गुरूग्राम में भी बना है। यहां पर एक विद्यालय तीन दिन के लिए बंद कर दिया गया है। कई लोग मास्क लगाकर सफर कर रहे हैं तो कुछ तो एयर फिल्टर का उपयोग भी कर रहे हैं। बीते 1 वर्षों में पहली बार दिल्ली में इस तरह की धुंध देखने को मिल रही है।

इस तरह की खतरनाक और प्रदूषित वायु में लोगों को सांस लेने में भी परेशानी का अनुभव हो रहा है। वातावरण में प्रदूषण मानक स्तरों से अधिक हो गया है और पर्यावरणविद इसे बेहद गंभीर परिस्थिति मान रहे हैं। बीते 17 वर्षों में पहली बार दिल्ली में इस तरह की खतरनाक धुंध देखने को मिल रही है। खतरनाक धुंध का असर है कि बच्चों और बुजुर्गों पर भी असर हो रहा है। हालांकि धुंध सुबह के समय सबसे अधिक हो गई है।

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -