'उन्होंने खुद ही अपने आप को जख्म दिए होंगे..', कोर्ट में बिभव के वकील की बातें सुन रो पड़ीं AAP सांसद स्वाति मालीवाल

'उन्होंने खुद ही अपने आप को जख्म दिए होंगे..', कोर्ट में बिभव के वकील की बातें सुन रो पड़ीं AAP सांसद स्वाति मालीवाल
Share:

नई दिल्ली: आम आदमी पार्टी (AAP) की राज्यसभा सांसद स्वाति मालीवाल सोमवार को अदालत में उस समय रो पड़ीं, जब दिल्ली सीएम अरविंद केजरीवाल के सहयोगी बिभव कुमार के वकील ने कहा कि उन्होंने 13 मई को दिल्ली के मुख्यमंत्री के आवास पर कथित हमले का स्थान इसलिए चुना, क्योंकि वहां कोई CCTV नहीं था, जो घटना को रिकॉर्ड कर सके।

दिल्ली महिला आयोग की पूर्व अध्यक्ष ने आप की "ट्रोल्स की सेना" की आलोचना की, बलात्कार और मौत की धमकियों में वृद्धि के लिए एक लोकप्रिय यूट्यूबर को दोषी ठहराया और अदालत से कहा कि अगर बिभव कुमार को जमानत दी गई, तो "मेरे साथ-साथ मेरे परिवार की जान को भी खतरा है।" दिल्ली की तीस हजारी अदालत मुख्यमंत्री के सहयोगी द्वारा दायर जमानत याचिका पर सुनवाई कर रही थी, जिनकी न्यायिक हिरासत 24 मई को चार दिनों के लिए बढ़ाए जाने के बाद कल समाप्त हो रही है। उन्हें 18 मई को गिरफ्तार किया गया था।

अपने मुवक्किल की ओर से बोलते हुए, बिभव कुमार के वकील ने कहा कि, "यह सब पूर्वनियोजित था। मेरे खिलाफ झूठे आरोप लगाए गए, ताकि मुझे बदनाम किया जा सके, चाहे इसका कोई भी कारण हो, क्योंकि उन्हें लगता था कि मुख्यमंत्री से न मिलने के लिए मैं जिम्मेदार हूं।" उन्होंने कहा, "(केजरीवाल के आवास पर) जिस ड्राइंग रूम में कथित घटना हुई, वहां कोई CCTV नहीं लगा था। इसलिए उन्होंने यह स्थान चुना। उन्हें पता है कि वहां कोई सीसीटीवी नहीं है। वह वहां आसानी से जा सकती हैं और बाद में आरोप लगा सकती हैं।" वकील ने कहा कि मालीवाल ने 13 मई को जो किया वह "अतिक्रमण के समान है"।

बिभव के वकील ने कहा कि, "क्या कोई इस तरह से कहीं घुस सकता है? यह मुख्यमंत्री का आवास है। सांसद होने के नाते आपको अपनी मर्जी के मुताबिक कुछ भी करने की छूट नहीं मिल जाती। उनकी तरफ से उकसावे की कार्रवाई की गई। वह परेशानी खड़ी करने के इरादे से आई थीं। हालांकि वह अक्सर यहां आती रही हैं, लेकिन इससे उन्हें अवैध रूप से प्रवेश करने का अधिकार नहीं मिल जाता।" मालीवाल की पुलिस FIR में "नंगा करने के इरादे से हमला" वाली धारा पर टिप्पणी करते हुए वकील ने कहा, "आरोपों से यह साबित नहीं होता कि उनके कपड़े उतारने का इरादा था। कपड़े उतारने का इरादा पूरी तरह से अलग है। अगर मैं प्राचीन समय का हवाला देता हूं, तो यह एक अपराध है जो कौरवों पर लागू हो सकता है, क्योंकि उन्होंने द्रौपदी के साथ जो किया था।" 

अदालत को संबोधित करते हुए मालीवाल ने कहा कि कथित हमले की रिपोर्ट करने के बाद से उन्हें बार-बार भाजपा एजेंट कहा जा रहा है। राज्यसभा सांसद ने कहा, "उनके (आप) पास ट्रोल्स की फौज है। पूरी पार्टी मशीनरी तैनात कर दी गई है। मेरे खिलाफ लगातार प्रेस कॉन्फ्रेंस की गई। यह आदमी (बिभव कुमार) सामान्य नहीं है।" यूट्यूबर ध्रुव राठी का नाम लिए बिना मालीवाल ने कोर्ट को बताया कि "एक यूट्यूबर, जो पहले वॉलंटियर था, ने एकतरफा वीडियो बनाया। वीडियो के बाद मुझे लगातार जान से मारने और बलात्कार की धमकियां मिलने लगीं।"

रविवार को स्वाति मालीवाल ने वीडियो पोस्ट करने के लिए यूट्यूबर को आड़े हाथों लिया और ट्वीट में कहा कि, "मेरी पार्टी यानी आप के नेताओं और कार्यकर्ताओं ने मेरे खिलाफ चरित्र हनन, पीड़िता को बदनाम करने और भावनाओं को भड़काने का अभियान चलाया, जिसके बाद मुझे बलात्कार और जान से मारने की धमकियां मिल रही हैं। यह तब और बढ़ गया जब यूट्यूबर ध्रुव राठी ने मेरे खिलाफ एकतरफा वीडियो पोस्ट किया।"

अपनी दलीलें पेश करते हुए मालीवाल के वकील ने कहा कि बिभव कुमार जांच में सहयोग नहीं कर रहे हैं और पुलिस द्वारा पूछे गए सवालों से बच रहे हैं। उन्होंने कहा कि, "अगर स्वाति मालीवाल ने बिभव कुमार के वकील के अनुसार घर में अवैध प्रवेश किया था, तो इस संबंध में कोई शिकायत क्यों नहीं की गई? उनकी मेडिकल जांच तीन-चार दिन बाद की गई थी, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि इसका कोई मतलब नहीं है। यह अभी भी मायने रखता है।"

इस बीच, दिल्ली पुलिस के वकील ने कहा, "जब उन्हें वहां (मुख्यमंत्री के आवास पर) इंतजार करने के लिए कहा गया तो यह अतिक्रमण कैसे हुआ? वह अतिक्रमणकारी नहीं थीं, बिभव अतिक्रमणकारी थे।" राष्ट्रीय राजधानी में दो सप्ताह पहले एक बड़ा राजनीतिक विवाद खड़ा हो गया था, जब स्वाति मालीवाल ने आरोप लगाया था कि अरविंद केजरीवाल के सहयोगी वैभव कुमार ने उन्हें "बार-बार पूरी ताकत से मारा" और मुख्यमंत्री आवास पर उन्हें "सात-आठ बार लात और थप्पड़ मारे गए"। जवाब में केजरीवाल ने कहा कि मारपीट मामले की निष्पक्ष जांच से न्याय मिलेगा, क्योंकि इसके दो संस्करण हैं।

वहीं, स्वाति के वकील ने कोर्ट में कहा कि पीड़िता को नोटिस दिए बिना जमानत याचिका पर सुनवाई नहीं हो सकती। उन्होंने बताया कि 3-4 दिन बाद भी घाव थे, इससे स्पष्ट है कि घाव गहरे थे। उन्होंने बताया कि 17 मई को ईमेल के माध्यम से पीड़िता ने शिकायत भेज दी थी। पुलिस से पूछताछ में आरोपित ने गुमराह किया। उन्होंने याद दिलाया कि विभव कुमार पहले भी सरकारी कर्मचारी को पीट चुका है। साथ ही पूछा कि यदि बिभव निर्दोष है तो उसने फोन को फॉर्मेट क्यों किया, CCTV फुटेज से छेड़खानी क्यों की गई? वहीं, बिभव के वकील ने दावा किया कि जो जख्म हैं, वो खुद से किए गए भी हो सकते हैं।

MP में बीयर पीने से हुई 2 कांस्टेबल की मौत, जाँच में जुटी पुलिस

अवैध रूप से भारत में घुसे 20 बांग्लादेशी, बनवा लिया यहाँ का आधार-वोटर कार्ड, अब कोर्ट ने सुनाई सजा

केदारनाथ धाम में बना नया इतिहास, 18 दिन में 5 लाख लोगों ने किये दर्शन

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -