महाराष्ट्र का 'मुख्यमंत्री' बनने से लेकर पुलिस से बचने तक, एकनाथ शिंदे ने खोले कई राज

मुंबई: महाराष्ट्र में एकनाथ शिंदे ने सोमवार को अपनी एक और परीक्षा भी उत्तीर्ण कर ली। वे भरोसा मत जीत गए। उन्हें 164 वोट प्राप्त हुए। इसी बीच एकनाथ शिंदे ने खुलासा किया कि आखिर उन्होंने शिवसेना से बगावत का कब मन बनाया। कैसे महाराष्ट्र पुलिस की नाकेबंदी को तोड़ा। कैसे वे हर खेल में उद्धव ठाकरे को मात देने में कामयाब रहे। 

एकनाथ शिंद ने कहा, उन्हें लंबे वक़्त से दबाया जा रहा था। उन्होंने कहा, उनका विद्रोह उनके साथ किए गए अनुचित बर्ताव का परिणाम था। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने बताया कि विधानपरिषद के चुनाव से उन्होंने शिवसेना के खिलाफ बगावत का मन बना लिया था। इतना ही नहीं शिंदे ने महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस को नई सरकार के गठन के पीछे का असली कलाकार बताया। हालांकि, उन्होंने कहा, वह हमेशा शिव सैनिक रहेंगे तथा प्रतिशोध की राजनीति नहीं करेंगे। 

एकनाथ शिंदे ने विश्वास मत जीतने के बाद अंसेबली में कहा, विधानपरिषद चुनाव के परिणामों के चलते जिस प्रकार से मेरे साथ बर्ताव किया गया। मैंने सोच लिया था कि अब मैं वापस नहीं लौटूंगा। विधानपरिषद चुनाव में भाजपा ने 5 सीटों पर जीत हासिल की। वहीं, कांग्रेस के चंद्रकांत हंडोरे को हार प्राप्त हुई। कुछ दिन पहले ही राज्यसभा चुनाव में भी शिवसेना के दूसरे प्रत्याशी को भाजपा प्रत्याशी के सामने हार का सामना करना पड़ा था। एकनाथ शिंदे ने कहा कि वे मुंबई से बाहर जाने में कैसे कामयाब हुए। शिंदे ने कहा, ''पुलिस ने नाकाबंदी की थी। मुझे पता है कि मोबाइल फोन टावरों का पता कैसे लगाया जाता है तथा किसी शख्स को कैसे ट्रैक किया जाता है। मैं नाकबंदी से बचना भी जानता हूं।'' नई सरकार के गठन से पहले की घटनाओं का जिक्र करते हुए शिंदे ने कहा कि वे गुवाहाटी में जहां होटल में रुके थे, वहां से विधायकों के सोने के पश्चात् फडणवीस से मिलने के लिए निकलते थे। फिर प्रातः जल्दी पहुंच जाते थे। उन्होंने कहा कि देवेंद्र फडणवीस सरकार के असली कलाकार हैं। मुंबई से निकलने के पश्चात सभी MLA 20 जून को सूरत पहुंचे थे। तत्पश्चात, सभी वहां से चार्टर्ड विमान से गुवाहाटी पहुंचे। 29 जुलाई को सभी MLA गोवा पहुंचे। यहां से वे 2 जुलाई को मुंबई पहुंचे। बृहस्पतिवार को शिंदे ने मुख्यमंत्री पद की, जबकि देवेंद्र फडणवीस ने उपमुख्यमंत्री पद की शपथ ली। 

अब 'कन्हैयालाल हत्याकांड' की निंदा करने पर भी होगी हत्या ?

'हिंदू कायर हैं इसलिए उनके भगवान का अपमान होता है, लेकिन हमारा खौफ है', जानिए क्या है ये मामला

'मेरा आदमी तुम्हे गोली मारेगा..', कपिल मिश्रा को अकबर आलम की धमकी

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -