मासूम बच्ची को लोहे की गर्म सलाखों से दागा

अंधविश्वासों में लोग न जाने क्या-क्या कर जाते है जिसका अंजाम मासूमों को भुगतना पड़ता है. हाल ही में एक ऐसी घटना सामने आई है जिसने सोचने पर मजबूर कर दिया है. बताया जा रहा है कि एक व्यक्ति ने अपनी चार माह की मासूम बच्ची को गर्म सलाखों से दाग दिया जिसके चलते बच्ची की हालत काफी बिगड़ और उसे भीलवाड़ा शहर के महात्मा गांधी अस्पताल में भर्ती कराया है.

बता दे कि, राजस्थान के भीलवाड़ा जिले में निमोनिया के इलाज के नाम पर अंधविश्वास के चलते बच्चों को दागने का सिलसिला काफी पुराना है जिसका सिलसिला ख़त्म होने का नाम ही नहीं ले रहा है. बच्ची के पिता उदयलाल भील का कहना है कि मेरी बेटी नन्दनी को 10 दिन पहले निमोनिया हो गया था.

इसलिए वह गांव में ही लोकदेवता के पूजा करने वाले रामदेव के पास लेकर गया जिन्होंने बच्ची को लोहे के सलाखों से दागने (दांव लगाने ) के लिए कहा. इसके बाद उसने बच्ची को गर्म सलाखों से दाग दिया. इस पर बच्ची की  हालत में सुधार होने के बजाय और बिगड़ गई जिसके बाद बच्ची को अस्पताल में भर्ती कराया है. अस्पताल के चिकित्सक डॉ.ओ.पी.अगाल ने बच्ची को निमोनिया के साथ ही हाई की बीमारी की भी आशंका जताई है. हालांकि, ये पहली बार नहीं जब अंधविश्वासों में रहकर लोगों ने इस तरह का काम किया है इससे पहले भी ऐसा कई बार हो चूका है और अभी भी ये सिलसिला जारी है.

ये भी पढ़े

प्रेमी संग मिलकर नातिन ने की नानी की हत्या

पहले लूटपाट फिर पति के सामने पत्नी का गैंगरेप

लव जिहाद : प्रेमी जोड़ा मुंबई एयरपोर्ट से गिरफ्तार

लिफ्ट देकर करते थे लूटपाट और फिर ह्त्या

 

Most Popular

- Sponsored Advert -