मशहूर शास्त्रीय गायिका प्रभा अत्रे का 92 वर्ष की आयु में निधन, तीन बार पद्म पुरस्कार से हो चुकीं थीं सम्मानित
मशहूर शास्त्रीय गायिका प्रभा अत्रे का 92 वर्ष की आयु में निधन, तीन बार पद्म पुरस्कार से हो चुकीं थीं सम्मानित
Share:

मुंबई: तीन बार पद्म पुरस्कार से सम्मानित, मशहूर शास्त्रीय गायिका प्रभा अत्रे का शनिवार को दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया है। 92 साल की दिग्गज गायिका उसी दिन मुंबई में एक कार्यक्रम में हिस्सा लेने वाली थीं. दिल का दौरा पड़ने के बाद गायिका को पुणे के दीनानाथ मंगेशकर अस्पताल ले जाया गया, जहां उनकी तबीयत बिगड़ने के बाद अस्पताल पहुंचने से पहले ही उनकी मृत्यु हो गई।

देवेन्द्र फड़णवीस ने उनके निधन पर दुख व्यक्त करते हुए कहा है कि, "उनका दुनिया से चले जाना बहुत दुखद है, भारतीय संगीत हमेशा उनका ऋणी रहेगा, मैं उन्हें भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं और भगवान उनके परिवार को इस दुख को सहन करने की शक्ति दे।" महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री अजीत पवार ने भी दुख व्यक्त किया और कहा कि, "प्रभा जी के निधन से शास्त्रीय संगीत के गौरवशाली युग का अंत हो गया। उनका निधन देश के संगीत क्षेत्र और कला क्षेत्र के लिए एक बड़ी क्षति है, वह उन्हें श्रद्धांजलि देते हैं।" 

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री ने उनके निधन पर दुख व्यक्त करते हुए प्रशासन को गायिका का अंतिम संस्कार पूरे राजकीय सम्मान के साथ करने का निर्देश दिया। उनके रिश्तेदार फिलहाल विदेश में हैं और उनके देश लौटने के बाद मंगलवार को पुणे में उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा। प्रभा अत्रे का जन्म 13 सितंबर 1932 को पुणे में हुआ था। साल 2022 में उन्हें पद्म विभूषण से सम्मानित किया गया, हाल ही में 25 दिसंबर को उन्हें महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस ने अटल संस्कृति पुरस्कार से सम्मानित किया। इससे पहले उन्हें 1990 में पद्मश्री, साल 2002 में पद्म भूषण और साल 2022 में पद्म विभूषण से सम्मानित किया गया था।

अत्रे ने बहुत कम उम्र में ही शास्त्रीय गीत गाना शुरू कर दिया था। अपने करियर के शुरुआती दिनों में उन्होंने एक गायन मंच अभिनेत्री के रूप में एक छोटा सा कार्यकाल बिताया। उन्होंने संशाय-कल्लोल, मानापमान, सौभद्रा और विद्याहरण जैसे संगीत नाटकों सहित मराठी थिएटर क्लासिक्स की श्रृंखला में भी भूमिकाएँ निभाईं। उन्हें भारतीय शास्त्रीय गायन संगीत को वैश्विक स्तर पर लोकप्रिय बनाने में उनके योगदान के लिए भी जाना जाता है। ख्याल, ठुमरी, दादरा, ग़ज़ल, गीत, नाट्यसंगीत आदि जैसी विभिन्न संगीत शैलियों में भी उन्हें महारत हासिल थी।

चीन की कोयला ख़दान में हुआ भीषण विस्फोट, 10 मजदूरों की मौत, 6 लापता

'संस्कार और धर्म की बात आपको शोभा नहीं देती’! राम मंदिर पर भिड़ी रविंद्र जडेजा की बहन और पत्नी

INDIA गठबंधन का संयोजक बनने से नितीश कुमार का इंकार, इस दिग्गज नेता के नाम पर लगी मुहर !`

 

रिलेटेड टॉपिक्स