राजनीतिक दल प्रचार के लिए सेना के जवानों की फोटो का इस्तेमाल न करे - चुनाव आयोग

नई दिल्ली : अब से कुछ दिनों पूर्व पाकिस्तान सीमा में हुई एयर स्ट्राइक को लेकर देश में छिड़ी बहस के बीच चुनाव आयोग ने निर्देश दिया कि राजनीतिक दल प्रचार के लिए सेना के जवानों की फोटो का इस्तेमाल न करे। आयोग को शिकायतें मिल रही थीं कि कुछ राजनीतिक दल अपने विज्ञापनों और प्रचार सामग्री में जवानों की तस्वीरें लगा रहे हैं। हाल ही में दिल्ली में भाजपा के चुनावी पोस्टर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, अमित शाह के साथ वायुसेना के विंग कमांडर अभिनंदन के फोटो देखे गए थे।

लोकसभा चुनाव की तैयारियों को लेकर निर्वाचन आयोग की अहम बैठक आज

ऐसा है निर्वाचन आयोग का निर्देश 

सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार चुनाव आयोग ने 2013 का आदेश सभी मान्यता प्राप्त दलों को दोबारा जारी किया है। इसमें कहा है कि सशस्त्र बल देश की सुरक्षा और राजनीतिक प्रणाली के रखवाले हैं। आधुनिक लोकतंत्र में वे गैर-राजनीतिक और निष्पक्ष होते हैं। राजनीतिक दल और राजनेता अपने प्रचार के दौरान सशस्त्र बलों का कोई भी उल्लेख करते वक्त ऐहतियात बरतें। 

सोशल मीडिया पर फैल गयी लोकसभा चुनावों की फर्जी तारीख़े, निर्वाचन आयोग ने दर्ज कराया मामला

इस तरह नहीं होगा इस्तेमाल 

प्राप्त जानकारी के अनुसार निर्देश के अनुसार 'आर्मी चीफ या कोई भी सेना का जवान और फौजों के किसी कार्यक्रम का फोटो किसी भी रूप में विज्ञापन या प्रोपेगैंडा या प्रचार अभियान में किसी राजनीतिक दल या उम्मीदवार द्वारा इस्तेमाल नहीं किया जाना चाहिए। बता दें पाक के एफ-16 को मार गिराने के बाद विंग कमांडर अभिनंदन का मिग-21 क्रैश हो गया था। वह इजेक्ट होकर पाक के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) में गिरे थे। पाक अफसरों ने अभिनंदन को 1 मार्च को रिहा किया था। 

महिला दिवस के मौके पर पंजाब सरकार ने दिया यह ख़ास तोहफा

आज ग्रेटर नोएडा में मेट्रो को हरी झंडी दिखाएंगे पीएम मोदी

ट्रैक्टर धोते समय टायर में जोरदार विस्फोट, दो की दर्दनाक मौत

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -