कोरोना वैक्‍सीन बनाने के करीब पहुंचा भारत, मिली बड़ी सफलता

कोरोना वायरस के दिन प्रतिदिन बढ़ते संक्रमण की वजह से पूरी दुनिया में जहां हाहाकार मचा है, वहीं गुजरात के वैज्ञानिकों ने कोविड 19 वायरस का जिनोम सिक्वेंस खोज निकालने का दावा किया है. कोरोना से जंग में जहां इससे मदद मिलेगी, वहीं इसकी वैक्सीन खोजने में भी यह मददगार होगा. गुजरात बायोटेक्नालॉजी रिसर्च सेंटर के निदेशक चैतन्य जोशी ने खुद ट्वीट कर इसकी जानकारी दी.

भारत से कम है इस देश में कोरोना पीड़ितों की संख्या, लेकिन मौतें तीन गुना अधिक

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने इसे रीट्वीट करते हुए वैज्ञानिकों को बधाई दी तथा मानवजाति के कल्याण में इसे एक मील का पत्थर बताया. जीबीआरसी ने कोरोना संक्रमित अलग-अलग सौ लोगों के सैंपल लिए तथा उनका डीएनए टेस्ट किया. जोशी बताते हैं कि कोरोना वायरस में एक माह में दो बार परिवर्तन देखे गए, वह तेजी से बदलता है, लेकिन यह बेहद मामूली होता है.

पैसे निकालने के लिए बैंक की लाइन में लगा बुजुर्ग, अचानक तबियत बिगड़ी और हो गई मौत

अपने बयान में आगे स्वास्थ्य विभाग की प्रधान सचिव डॉ जयंती रवि ने बताया कि वैज्ञानिकों ने कोरोना वायरस के मूल को खोजा है. कोविड 19 में अब तक 9 म्यूटेशन पाए गए हैं. गुजरात की स्टेट लैब ने 3 नए म्यूटेशन को खोजा है. इससे पहले 6 म्यूटेशन खोजे जा चुके हैं. शोध से कोविड की हिस्ट्री का पता चलेगा, साथ ही उसकी दवा या वैक्सीन ईजाद करने में मदद मिलेगी.

'सबकी रसोई' का पहला चरण समाप्त, 16.5 लाख लोगों को दिया गया भोजन

आंध्रा सीएम जगन रेड्डी का बड़ा ऐलान, क्वारंटाइन पूरा कर चुके लोगों को देंगे आर्थिक मदद

20 अप्रैल से शुरू होगी मोबाइल, टीवी, जैसे सामानों की बिक्री, जानिए कैसे खरीद सकते हैं आप

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -