यदि आप भी उपयोग करते है डेबिट कार्ड तो आज ही जान लें यह जरुरी बात

आज के समय में हर किसी के पर्स में नक़द के अलावा कई क्रेडिट कार्ड, डेबिट कार्ड, रीटेल स्टोर कार्ड, लॉयलटी प्रोग्राम कार्ड, पहचान पत्र आदि आसानी से मिल जाएंगे. यदि आपका पर्स कहीं गुम जाए या चोरी हो जाए तो आप अलग-अलग बैंकों में फोन करके कार्ड्स को ब्लॉक कराएंगे या फिर नए कार्ड के लिए निवेदन करोगे. वहीं नए पहचान पत्र बनवाने के लिए बहुत दौड़-धूप करनी पड़ती हैं. ऐसे में आप कार्ड प्रोटेक्शन प्लान से आप अपने जीवनभर की जमापूंजी और पहचान सुरक्षित कर सकते हैं. सीपीपी यानी कार्ड प्रोटेक्शन प्लान एक तरह से कार्ड का बीमा है. इसमें क्रेडिड कार्ड और डेबिट कार्ड के साथ-साथ स्टोर, लॉयलटी, आधार, पैन कार्ड सभी सम्मलित हैं. वही सभी बैंक अपने ग्राहकों कोे प्रोटेक्शन प्लान की सेवा दे रहे हैं. इसके लिए छोटी वार्षिक प्रीमियम का भुगतान करके इस प्लान को रीन्यू कराना होता है. वही डेबिट-क्रेडिट कार्ड या अन्य कार्ड गुम होने पर सीपीपी कवर करता है. यह मान लीजिए कि आपका पर्स गुम गया है तो सिर्फ़ आपको एक कॉल करना होगा. जिससे गुम हुए सभी कार्ड एक साथ ब्लॉक कर दिए जाएंगे.

इसके लिए आपको आधार कार्ड, पैन कार्ड, पासपोर्ट, ड्रायविंग लायसेंस, बीमें के कागज़ात आदि का पंजीकरण करना होगा. वही सिस्टम में इनकी जानकारी सुरक्षित रखी जाती है जो ज़रूरत पड़ने पर आपके काम आती है. इनके अतिरिक्त अगर आपका मोबाइल कहीं गुम जाए या चोरी हो जाए तो सीपीपी की मदद से इसकी शिक़ायत कर सकते हैं. वही बैंक के पास आपके मोबाइल फोन का IMEI भी उपलब्ध होता है इस सुविधा की मदद से मोबाइल नेटवर्क से मोबाइल का पता लगाया जाता है या सिम ब्लॉक कर दी जाती है. इसका फायदा यह हैं की यदि आप कहीं घूमने या सफ़र के समय आपका पर्स गुम होता है तो ये प्रोटेक्शन प्लान आपके होटल का खर्च उठाता है. यदि इस स्थिति में टिकट भी खो बैठे हैं तो ये उसके बदले नया टिकट दिलाने में भी मदद करता है. चूकि ये सेवाएं बैंकों की योजनाओं पर भी निर्भर करती हैं.

सीपीपी से अग्रिम नक़द की सहायता भी मिलती है. ये सेवा ख़ासतौर पर तब सहायक है जब आप देश में ही सफ़र कर रहे हों. मदद मिलने के पश्चात् 28 दिन के अंदर आपको ये रकम लौटानी भी होती है. इस योजना के अंतर्गत अपने परिवार के सदस्यों को बिना किसी अतिरिक्त शुल्क के जोड़ सकते हैं. योजना में कई विकल्प होते हैं जिसके अनुसार आप अपने जीवनसाथी का नामांकन कर सकते हैं. अपने परिवार के चार सदस्यों जिसमें जीवनसाथी के साथ माता और पिता को नामांकित भी करा सकते हैं.

बुरी खबर: देवी नेशनल पार्क के जंगलों में लगी आग, लाखों की वन संपदा जलकर ख़ाक

भारत से चीन घूमने गए शिक्षकों की वापसी पर लगी रोक

24 फरवरी को भारत का दौरा करेंगे ट्रम्प, जानिए इसके पीछे की ख़ास वजह

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -