कोरोना पर DRDO का बड़ा फैसला, अब INMAS में होगा परिक्षण

नई दिल्ली: रक्षा अनुसंधान विकास संगठन (DRDO) ने निजी सुरक्षा उपकरण (पीपीई) किट और मास्क की डिलीवरी में देरी को देखते हुए टेस्टिंग सुविधा को रक्षा अनुसंधान विकास प्रतिष्ठान (DRDO), ग्वालियर से इंस्टीट्यूट ऑफ न्यूक्लियर मेडिसिन एंड एलाइड साइंसेज (INMAS) में शिफ्ट कर दिया है।

इंस्टीट्यूट ऑफ न्यूक्लियर मेडिसिन एंड एलाइड साइंसेज (INMAS), DRDO की एक अन्य मुख्य जीवन विज्ञान लैब है। दिल्ली स्थित INMAS में परिक्षण के अलावा बॉडी सूट और मास्क के मूल्यांकन की भी सुविधा है और पूरी तरह से संचालन में है। इन चीजों के 10 से अधिक बैचों का पहले ही लैब में परीक्षण किया जा चुका है। रक्षा अनुसंधान विकास प्रतिष्ठान (DRDE), ग्वालियर जो जानलेवा कोरोना वायरस से लड़ने में सबसे आगे रहा है। अब HLL लाइफकेयर लिमिटेड को विदेश से आने वाले मास्क और बॉडी सूट के लेबल दावों की पुष्टि करने का जिम्मा सौंपा गया है। 

HLL लाइफकेयर लिमिटेड की तरफ से पुष्टि किए जाने के बाद ही इसे अन्य एजेंसियों को वितरित किया जाएगा। दूसरी तरफ, चीन के गोंगझाउ हवाई अड्डे से गुरुवार सुबह कोरोना वायरस के इलाज में उपयोग होने वाली किट्स की खेप भारत के लिए रवाना कर दी गई है। इस खेप में 6,50,000 टेस्टिंग किट्स शामिल हैं।

लॉकडाउन : घर लौटे पाकिस्तानी नागरिक, इस वजह से आए थे भारत

कोरोना : मंत्रियों के समूह की बैठक जारी, थम सकता है कोरोना प्रसार

शेयर बाजार की शानदार शुरुआत, सेंसेक्स में 990 अंकों की बढ़त

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -