पुरूष और महिला भूल से भी इन जगहों पर न करें ये गलती

मानव जीवन इच्छाओं का पुतला है। हर थोड़े-थोड़े समय में मानव मस्तिष्क के अन्दर कई तरह की इच्छाएं जागृत होती रहती हैं। ऐसे ही अगर पुरूष और स्त्री के सम्बधों के बारे में बात करें तो। हर पुरूष और महिला की इच्छा एक दूसरे के साथ सम्बधं बनाने की होती है। लेकिन इसका मतलब यह नहीं होता की जहां पर इच्छा हो वहीं पर सम्बधं बना लिया जाए। शास्त्र की मानें तो हमारे आस-पास बहुत सी ऐसी कई जगह हैं, जहां पर अगर सम्बन्ध बनाया जाए, तो इसका अशुभ फल मानव जीवन पर पड़ता है। ऐसा करने से इंसान कई प्रकार की समस्याओं से घिर सकता है। तो आज हम आपसे कुछ इसी सिलसिले पर चर्चा करने वाले हैं। यहां पर हम जानेंगे कि वह कौन सी जगह है, जहां पर भूल से भी संबन्ध नहीं बनाना चाहिए?

नदी – वास्तु के अनुसार नदी के पास शारीरिक संबंध बनाना गलत माना गया है। ऐसा करना विध्वंसकारी माना जाता है। कहा जाता है ऋषि परासर और सत्यवती के ऐसे संबंध ने ही महाभारत के युद्ध को जन्म दिया था।

अग्नि – हिंदू धर्म में अग्नि को देवता माना जाता है। शादी में व्यक्ति अग्नि को साक्षी मानकारी सात फेरे लेता है। कहा जाता है अग्नि के पास शारीरिक संबंध बनाना अशुभ होता है। ऐसा करने वाले लोग पाप के भागीदार माने जाते हैं।

ब्राहमण के पास- शास्त्रों के मुताबिक अगर आसपास कोई ऋषि या ब्राहमण और कोई गुरु हों तो ऐसी स्थिति में शारीरिक संबंध नहीं बनाना चाहिए। ऐसा करना उनका अपमान माना जाता है।

मंदिर – वास्तु के अनुसार मंदिर परिसर में शरीरिक संबंध बनाना महापाप माना जाता है। इसके साथ ही मंदिर के आसपास भी शारीरिक संबंध पापकारी माना गया है। इसके साथ ही नवजात के पास शारीरिक संबंध बनाना महापाप माना जाता है। इसके अलावा दूसरों के घर भी शारीरिक संबंध बनाना गलत बताया गया है।

कब्र – कहा जाता है कब्र के पास शारीरिक संबंध संबंध बहुत ही अशुभ माना जाता है। ऐसी जगहों पर शारीरिक संबंध बनाने से दांपत्यजीवन तबाह हो जाता है।

 

वास्तुशास्त्र के अनुसार दक्षिण दिशा में भूल से भी न करें ये काम

सपने में हो जाए जहरीले सांप के दर्शन तो समझ लें की..

जीवन को सुखमय बनाते हैं ये आसान से उपाय

आखिर कितने साल तक रत्न रहता है फलदायी

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -