हैडली ने खोले मुंबई आतंक के राज़, हमले से पहले भारत में खोला था आॅफिस

Feb 11 2016 09:59 AM
हैडली ने खोले मुंबई आतंक के राज़, हमले से पहले भारत में खोला था आॅफिस

मुंबई : मुंबई में 26/11 को हुए आतंकी हमलों की साजिश को लेकर डेविड हेडली ने एक रहस्य को उजागर किया है। डेविड हेडली ने स्पेशल न्यायालय को कहा कि उनके हमले से पूर्व लश्कर-ए-तैयबा का आतंकी तहव्वुर राणा भारत पहुंचा। इस दौरान डेविड हेडली ने जानकारी देते हुए कहा कि उन्होंने मुंबई में एक कार्यालय खोला था। वीडियो काॅन्फ्रेंसिंग के माध्यम से पेशी के दौरान डेविड हेडली ने न्यायालय से यह कहा कि तहव्वुर राणा को मैंने ही वापस पाकिस्तान जाने को कहा था ताकि वह खुद सुरक्षित रहे।

डेविड हेडली ने जानकारी देते हुए यह बताया कि मुंबई में निवास करने के दौरान तहव्वुर द्वारा कई मर्तबा पैसे दिए गए। इस दौरान ट्रांजेक्शन की रसीद भी प्राप्त हुई है। हेडली के हस्ताक्षर भी इसमें मौजूद हैं। उन्होंने कहा कि 11 अक्टूबर 2006 से 4 दिसंबर 2006 के मध्य दो किश्तों में 2 लाख रूपए दिए गए थे।

हालांकि डेविड हेडली के बयानों को लेकर अबू जुंदाल के अभिभाषक वहाब खान ने हेडली को प्रमुख महत्व देने को लेकर आपत्ति जाहिर की। इस दौरान उनसे सवाल किया गया कि हेडली अमेरिकी न्यायालय की सुनवाई का हवाला दे रहा है। यह बात उचित नहीं है। इस तरह की सुनवाई के तहत हेडली के स्टार बक्स काॅफी पीने का विरोध भी किया गया।

दरअसल डेविड हैडली मुंबई के लोकप्रिय सिद्धि विनायक मंदिर के वीडियो लेने, ताज होटल में डिफेंस काॅन्फ्रेंस को निशाना बनाने और ताज होटल की रैकी हेतु अप्रैल वर्ष 2007 में अपनी पत्नी फैजा के साथ वर्ष 2007 में मुंबई आया था। मिली जानकारी के अनुसार हैडली को साजिद मीर ने भारत का पासपोर्ट दिया। जिसके बाद उसने करीब 8 बार भारत की यात्रा की। इस दौरान वह 7 बार मुंबई आया।