31 जनवरी को भारत में मिला पहला कोरोना मरीज, आज बन चुके है ऐसे हालत

चीन के वुहान से फैलने के बाद कोरोना वायरस का पहला मामला 31 जनवरी को भारत में सामने आया था. तीन महीने से ज्यादा का समय बीतने के बाद भारत 50 हजार संक्रमण के मामलों को पार कर चुका है. उस वक्त कई देशों में भारत की ही तरह नगण्य मामले थे. हालांकि अब स्थितियां बदल चुकी हैं. इन तीन महीनों में भारत की स्थिति में कैसे आया बदलाव और यह तुलनात्मक रूप से दुनिया के दूसरे देशों की अपेक्षा कैसा है.

Video: ग़ाज़ियाबाद में ATM मशीन के अंदर घुस गया सांप, मचा हड़कंप

आपकी जानकारी के​ लिए बता दे कि कोरोना को रोकने की दिशा में भारत के अलावा अन्य देशों की स्थिति पर नजर डालें तो 13 देशों ने इससे निपटने के लिए भारत से बेहतर काम किया है. 19 में से 13 देश ऐसे हैं, जहां पर भारत से कम मामले सामने आए हैं. कोरोना पर लगाम लगाने में पांच देशों का काम भारत की अपेक्षा ठीक नहीं रहा. वहीं चार देशों ने एक हजार का आंकड़ा नहीं छुआ है.

आखिर क्या है वंदे भारत मिशन ? जिसके तहत घर वापसी करेंगे भारतीय

इसके अलावा भारत के लिए सबसे बड़ी चिंता की बात संक्रमण के मामलों का तेजी से बढ़ना है. दैनिक स्तर पर भारत में रोजाना करीब 2500 मामले सामने आए हैं. यह अमेरिका को छोड़कर दुनिया में सबसे ज्यादा है.

इन कोरोना रोधी दवाओं का पॉजिटिव मरीज पर ट्रायल करने की मिली मंजूरी

तबाही मचा रहा कोरोना, केवल महाराष्ट्र में 731 मरीजों ने गवाई जान

हर रोज तीन हजार से अधिक कोरोना मरीज आ रहे सामने, जानें क्या है राहत की बात

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -