द्वारका में अज्ञात लोगों ने की शर्मनाक हरकत, क्वारंटीन सेंटर में फेंक गए मूत्र से भरी बोतल

नई दिल्ली: दिन प्रतिदिन बढ़ता जा रहा कोरोना का प्रकोप पूरी दुनिया में आफत बनता जा रहा है. हर दिन इस वायरस की चपेट में आने से कई मासूम परिवार अपनी जिंदगी खो दे रहे है. वहीं इस वायरस के कारण आज दुनियाभर में 81 से अधिक मौते हो चुकी है. और अब भी कई लाख लोग इस वायरस से संक्रमित है. वहीं पूरे देश समेत दिल्ली के कई क्वारंटीन केंद्रों में मेडिकल स्टाफ से किए जा रहे दुर्व्यवहार की बातें तो सामने आ ही रही थीं, अब दिल्ली के द्वारका केंद्र से भी कुछ ऐसी ही बात सामने आई है. जानकारी के अनुसार द्वारका नॉर्थ पुलिस स्टेशन क्षेत्र में आने वाली एक क्वारंटीन केंद्र में मूत्र से भरी दो बोतलें बरामद की गई हैं. इसकी बरामदगी को लेकर अज्ञात लोगों के खिलाफ आईपीसी की धारा 269 और 270 के तहत एक एफआईआर दर्ज की गई है.

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार दिल्ली शहरी आश्रय सुधार बोर्ड (DUSIB) के सिविल डिफेंस कर्मियों ने इसकी एफआईआर दर्ज कराई थी. उन्होंने एफआईआर में शिकायत की है कि कुछ लोगों ने क्वारंटीन फैसिलिटी परिसर में मूत्र से भरी बोतलें फेंकी थीं.

नरेला के क्वारंटीन केंद्र में वार्ड के बाहर शौच करने पर दो जमातियों पर दर्ज हो चुका है केस: जंहा इस बात का पता चला है की दिल्ली पुलिस ने नरेला क्वारंटीन केंद्र में उपद्रव करने वाले दो लोगों पर एफआईआर दर्ज की है. यह दोनों व्यक्ति निजामुद्दीन मरकज की तब्लीगी जमात में शिरकत कर चुके हैं और प्रशासन ने इन्हें मरकज से निकालकर यहां भर्ती कराया था. सफाई कर्मचारी ने अपनी शिकायत में आरोप लगाया है कि इन्होंने 31 मार्च के दिन अपने कमरे के बाहर ही शौच कर दिया था. एफआईआर में ये भी लिखा है कि ये दोनों आरोपी स्वास्थ्य विभाग और सरकार द्वारा जारी निर्देशों का पालन भी नहीं कर रहे हैं और लोगों की जान को खतरे में डालते हुए कोरोना से लड़ने की पूरी मुहिम को खतरे में डाल रहे हैं.

गिलास में कम निकला दूध तो पिता ने बेटे को मार दी गोली

लॉकडाउन: जरूरतमन्दों के लिए गोरक्षपीठ ने खोला खज़ाना, रोज़ाना चल रहा भंडारा

कोरोना: सुरक्षित रहे परिवार, इसलिए डॉक्टर ने कार को ही बना लिया अपना घर

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -